राजू को मिल गई शादी के लिए लड़की पढ़े मजेदार

किसी शहर में एक लड़का रहता था उसकी उम्र ३६ साल की थी। वह ज्यादा सुन्दर नहीं था इसीलिए उसे कोई लड़की पसंद नहीं करती थी और उसकी शादी में हमेशा लड़की वाले उसे मना कर देते थे । उस लड़के का नाम राजू था । राजू पढ़ने में बहुत तेज था । वह अपनी पढाई ख़त्म कर के काम की तलाश करने लगा । 

 काम बहुत जगह ढूंढने के बाद भी उसे काम मिल नहीं रहा था । बहुत लोग उसे देख के ताना भी देने लगे थे । वह बहुत चिंतित था ।  उसके घर वाले भी बहुत चिंतित थे। राजू अपने घर वालो का सबका बात मानता था ।वह अपनी मां का छोटी से छोटी  बात का भी ख्याल रखता था । एक बार राजू काम की तलाश के लिए दूसरे शहर जाता है । दूसरे शहर में राजू को एक लड़का मिलता है । वह लड़का दूसरे देश में काम करता था किसी काम से वह उस शहर में आया था। राजू अपने बारे में उस लड़का को बताता है ।

 वह लड़का राजू से कहता है मैं जहां काम करता हूँ वहां तुम्हे काम मिल सकता है । इतना सुनते ही राजू घर जाता है और अपनी बूढी माँ को बताता है की दूसरे देश में काम मुझे मिल रहा है मैं जाए रहा हूँ। उसकी मां भी मना नहीं करती है । अब राजू को अपना पासपोर्ट तैयार करवाना था । पासपोर्ट बनवाने के बाद वह अपनी टिकट बुक कराता है ।  उसके बाद वह अपनी काम के लिए दूसरे शहर जाने के लिए घर से निकल जाता है । सब बहुत खुश थे की राजू को काम मिल गया। 

दूसर देश में पहुंचने के बाद वह उस लड़के से मिलने के लिए उसके पता पर जाता है । वहाँ उसे वह लड़का मिलता है जिसने उसे काम के लिए बुलाया था।  राजू को वह अपने घर में जगह देता है । एक दिन आराम करने के बाद वह लड़का राजू को अपने कारखाना में ले जाता है ।  वहाँ मैनेजर से मिलने के बाद राजू को काम में रख लिया जाता है । लगभग एक सप्ताह बीतने के बाद राजू को अपने घर की याद आने लगती है। उसे उस देश में कोई अपना नहीं लगता था।

एक महीना काम करने के बाद वह अपने देश वापस आता है और उस कारखाना से पार्टनरशिप में एक शाखा अपने देश में खोलता है। इसके बाद राजू अपने यहाँ लोगो को काम देने लगता है। उसे सबसे ज्यादा ख़ुशी इस बात की थी की वह अपने देश के लोगो को रोजगार दे रहा है। वह अपने देश में अपने घरवालों के साथ ख़ुशी ख़ुशी रहने लगा। कुछ महीनो बाद उसकी शादी एक लड़की से हो जाती है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *