रेलवे ट्रैक पर ट्रेन के पहिए क्यों नहीं फिसलते?

ऊपर वाले बल को रेल में कर्षण क्षमता /ट्रैक्टिव एफर्ट ( Tractive effort ) कहते हैं , जो की नीचे वाले घर्षण बल 50 – 55 टन से हमेशा कम रहता है , अत: इंजन फिसलता नहीं है।

रेल इंजन का वजन 120 -126 टन तक होता है , हम गणन प्रयोजन के लिए 126 टन लेंगे , और कुल पहिये होते हैं 6 X 2 = 12 . इसे भी एक चित्र के माध्यम से देख लें . चित्र में सामने वाले 6 पहिये दिखाए गए हैं , पीछे भी 6 और यानि कुल 12 पहिये होंगे।

अब एक सरल गणन देखें

इंजन का कुल वजन : 126 टन
पहिये और पटरी के बीच घर्षण फैक्टर : 0.4
पहिये और पटरी के बीच उपलब्ध घर्षण बल = 126 X 0.4 = 50.4 टन
सो यह ख्याल रखा जाता है किसी भी इंजन में 50.4 टन से ज्यादा बल – जो कि प्रथम चित्र में ऊपर वाला बल है ( Push on wheel ) उत्पन्न नहीं हो , क्योंकि यह अधिकतम घर्षण बल की सीमा है . हकीकत में जो घर्षण बल उत्पन्न होता है वह इस सीमा से कम ही रहता है और ऊपर वाले बल के बराबर होता है . कुछ इंजन द्वारा विकसित किये जाने वाले ऊपर वाला बल , जिसे ट्रैक्टिव एफर्ट ( Tractive effort ) कहते हैं , आगे देखेंगे जो कि नीचे वाले घर्षण बल की सीमा 50.4 टन से ज्यादा नहीं होगी .[1]

ऊपर देखें , किसी भी बिजली इंजन की कर्षण क्षमता /ट्रैक्टिव एफर्ट ( Tractive effort ) – 50 टन से ज्यादा नहीं है , अत: इंजन फिसलता नहीं है . अधिकतम क्षमता 46.89 टन है जो कि 50 से कम है . यह इंजन बनाते वक़्त या खरीदते वक़्त ध्यान रखा जाता है।

हाँ , कभी कभी बरसात के मौसम में या जहाँ तेल गिरा हुआ हो वहाँ फिसलन हो जाती है और घर्षण फैक्टर 0.4 से कम हो सकता है वैसी हालत में इंजन फिसलने लगेगा , ( घट कर 0.1 से भी नीचे जा सकता है ), इस हेतु इंजन में यंत्र लगे रहते हैं जो कि इंजन के बल को घटा देते हैं – ठीक उसी तरह जैसे बारिश में आप अपनी चाल धीमी कर देते हैं और अहिस्ते अहिस्ते पांव जमा के चलते हैं . अगर इस से भी काम नहीं चले तो , इंजन के पहिये के आगे बालू का बक्सा होता है , जिससे सुखा हुआ बालू गिरा कर घर्षण को बढाया जाता है।

आधुनिक इंजन जो कि कंप्यूटर से लैस हैं , उनमें तब तक बल देते हैं जब तक कि , पहिया फिसलने के कगार पर न पहुँच जाए , इस तकनीक से घर्षण फैक्टर ( तकनीकी भाषा में coefficient of adhesion ) को .4 से बढ़ाकर .45 तक किया जा सकता है , इस कारण कुछ इंजन में 50.4 से ज्यादा बल मिल सकता है ( WAG9H – 52 टन , WDG5 – 56 टन ) .

Leave a Reply

Your email address will not be published.