लाल किला के चारों तरफ गड्ढा क्यों है, इस गड्ढे के पीछे कोई रहस्य छिपा है क्या?

किले राजा, महाराजा, सम्राट और बादशाह आदि बनवाते थे. किले बनवाने का मुख्य उद्देश्य सुरक्षा होता था राजा कि, राजपरिवार कि और शहर कि. बहुत से राजा पुरे शहर का ही परकोटा लगवाते थे जैसे कि जयपुर पिंक city का लगा हुआ है. जिससे उसके अंदर रहने वाले लोग बाहरी आक्रमण से सुरक्षित रह सके. दिल्ली का लालक़िला शाहजहाँ ने और आगरे का लालकिला अकबर ने बनवाया था ऐसी मान्यता इतिहासकार बताते आये है. आगरे कि स्थपना सिकंदर लोदी ने 1503 -04 में कि थी.

ग्वालियर के राजा मानसिंह तोमर को नियंत्रित रखने के लिए और उन पर आक्रमण करने के लिए, उनके राज्य को अपनी सल्तनत में मिलाने के लिए सिकंदर लोदी ने आगरा में छावनी स्थापित कि. जबकि कुछ लोग इसे सिकंदर से बहुत पहले का स्थान मानते है . आगरे के लाल किले और दिल्ली के लाल किले के चारो तरफ एक एक गहरी खायी खोदी गयी है. इसमें किसी भी आक्रमण के समय खायी को यमुना के पानी से भर देते थे, जिससे कोई भी विरोधी किले में सीधा नहि घुस सकता था.

दिल्ली आगरा के किले यमुना नदी के किनारे पर स्थिति है और इन कि खायी में यमुना नदी का ही पानी भरा जाता था. किले के दरवाजे को जोड़ने के लिए इस खायी पर पुल बना होता था. उस पुल का नियंत्रण किले के अंदर से ही होता था. इस पुल को आक्रमण के समय हटा दिया जाता था और खायी में पानी भरा होने से किले पर आक्रमणकारी सीधे घुस नहि सकता था. जो भी कोई सैनिक या जानवर किले पर आक्रमण करता था वह पानी से भरे खायी में गिर जाता, डूब जाता था.

इस खायी कि चौड़ाई और गहराई अलग अलग किले में अलग अलग होती थी. इस पर किले कि सुरक्षा निर्भर करती थी. किले पर दीवाल के सहारे किले के सैनिक खडे होकर दुश्मन के सैनिकों पर तीर, भला, बंदूक आदि अन्य हथियारों से हमला करते थे और ऊँची तथा सुरक्षित जगह पर होने से कम सैनिक ही आक्रमणकारी के बहुत से सैनिकों को हराने में समर्थ होते थे.

ऐसा नहि है कि बस लाल किले के आसपास ही चारो तरफ खायी या गड्डे खोदे गए है बल्कि भरतपुर, चित्तोड़ आदि के किलो के चारो तरफ भी गहरी खायी खुदी है. इससे किले को अतिरिक्त सुरक्षा मिलती है. दिल्ली के लाल किले को कुछ लोग पृथ्वी राज चौहान के लाल कोट का एक्सटेंशन मानते है. लेकिन दोनों कि स्तिथि अलग अलग है. लालकोट क़ुतुब काम्प्लेक्स में है जो कि महरोली से बदरपुर रोड और गुड़गांव तक के क्षेत्र में फैला है जबकि लालकिला पुरानी दिल्ली में चांदनी चौक में है.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *