लोहड़ी क्या होती है? जानिए

इस त्यौहार को पंजाब में फसल काटने के दौरान मनाया जाता है। फसल काटने के बाद किसानों की आमदनी होती और इनके घर में खुशियां आती हैं। इस दौरान आग जलाकर इसके अंदर गुड़, गजक, तिल आदि डाली जाती हैं। लोहड़ी को लेकर कई कहानियां भी प्रचलित हैं जिन्हें लोहड़ी के दिन खासतौर पर सुना जाता है जैसे दुल्ला भट्टी की कहानी, होलिका और लोहड़ी की कहानी आदि।

लोहड़ी का इतिहास क्या है

लोहड़ी को बहुत सालों से मनाया जात रहा है वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखें तो लोहड़ी का त्योहार हिंदू कैलेंडर के पौष महीने में आता है इसके बाद से सर्दियां घटनी शुरू हो जाती है और नई फसल का समय शुरू हो जाता है।

लोहड़ी की पार्टी कैसे होती है

लोहड़ी के दिन लोग आग जलाकर इसके आसपास नाचते-गाते हैं। आग में गुड़, तिल, रेवड़ी गजक आदि एक दूसरे को दी जाती है। यह सब चीजें आपस में बांटी भी जाती हैं। कई लोग इन्हें घर-घर जाकर भी बांटते हैं। इसके अलावा पॉप कॉर्न, तिल के लड्डू, मूंगफली की पट्टी आदि भी बांटी जाती है।

लोहड़ी की आग में क्या डाला जाता है

यह त्योहार आग जलाकर खासतौर पर शाम को मनाया जाता है इस दौरान लोग इसमें गुड़, तिल, रेवड़ी गजक, रेवड़ी, पॉपकॉर्न आदि डालते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.