वकील लोगों से क्या छिपाते है?

वकील बहुत कुछ छिपाते है सच है। परंतु आपको बता दूँ कि आप किसी भी पेशेवर को देख लो वो सब भी कुछ ना कुछ छुपाते ही है, इस छुपाने के पीछे एक डॉक्टर वकील या टीचर का आशय गलत भी हो सकता है और सही भी। जैसे एक डॉक्टर किसी की बीमारी लाइलाज होने पर भी उसको हिम्मत बढ़ाने के लिए कुछ तथ्य छुपा सकता है, वही कोई डॉक्टर फीस ऐंठने के लिए डरा भी सकता है।

वही एक टीचर कमज़ोर बच्चे को हिम्मत देने के लिए ये बात छुपा सकती है कि वो कमज़ोर है, वही खुद से ट्यूशन लगवाने के लालच में कह सकती है कि बच्चा बहुत कमजोर है इसको ट्यूशन भेजो नही तो फेल हो जाएगा।

ऊपर दिए उदाहरणों से आप समझ गए होंगे कि क्यों कभी छुपाना और कभी बताना जरूरी होता है। बस ये ही वकील भी करते है।

कभी-कभी ऐसा क्लाइंट आता है कि उसकी हिम्मत टूटी हुई होती है वो निराश होता है, तब एक अच्छा वकील उसको हिम्मत देता है, भरोसा देता है, और वकीलो की भाषा मे कहूँ तो पंप मारकर उसमें हवा भरता है, ताकि उसमें हिम्मत वापिस आये और वो केस को लड़ सके तथा वकील साहब को फीस भी मिले।

वही कई बार ऐसा आत्मविश्वास से भरा क्लाइंट आता है कि लगता है इसको किसी का डर ही नही, क्योंकि वो क्लाइंट सोचकर आता है कि उससे अक़्लमंद कोई नही वो गूगल से सभी जानकारियों को साथ लाता है, और वकीलो को समझाने लगता है।

अब वकील ऐसे क्लाइंट की हवा निकालते है, और क्योंकि वो वकील है कानून में महारत है तो गूगल के ज्ञान को धूल में मिलाते हुए उस क्लाइंट को इतना डराते है कि वो धरती पर रहे, और खुद को अधिक अक़्लमंद समझकर ये ना सोचे कि वो वकील हो गया और अब वकील साहब को फीस भी क्या देनी।

अब आते है कि क्या केस के सिलसिले में भी वकील झूठी बात कहते है जबकि उनको पता होता है कि केस हारने वाला है ? मेरा जवाब है नही।

क्योंकि कोई दुनियॉ का वकील आपको 100% नही कह सकता कि कोई केस जीता जा सकता है या हारने वाला है।

क्योंकि केस का ट्रायल/विचारण एक लंबी और जटिल प्रक्रिया है, कब किस मोड़ पर आपको जीत मिल जाए और कब हार, ये तो भविष्य और वकील की काबलियत पर निर्भर करता है।

वैसे अपने अनुभव से आपको एक कड़वी बात बताना चाहता हूँ, ये बात मेरे साथ हमेशा होती है कि जो भी क्लाइंट मुझसे ऑनलाइन सलाह ले या पर्सनली मिले तो मै उसको आसान भाषा में पूरा कानून समझाकर उसकी शंकाओं और डर को निकालने का प्रयास करता हूँ। ऐसा करने से क्लाइंट में इतनी हिम्मत आ जाती है कि उसको कानून का डर, कानून के ज्ञान के कारण खत्म हो जाता है।

अब मैं कहता हूँ, फीस इतनी लूंगा, तो क्लाइंट कहता है, वकील साहब आप ही तो कह रहे थे कि केस में कुछ नही है तुमको जेल भी नही जाना पड़ेगा, आसानी से बरी हो जाएगा।

तो अब इतनी फीस क्यों मांग रहे हो ? अब मैं क्या कहूँ कुछ समझ नही आता। इसके बाद वो क्लाइंट मोल-भाव करने की कोशिश करता है, जो मैंने कभी अपनी वकालत में नही किया।

इसके उलट मेरे साथी बहुत से वकील अच्छे है, मगर कुछ वकील इतना डराते है क्लाइंट को की उसको लगता है कि वकील साहब की मुँह मांगी फीस ना दी तो आज ही जेल हो जाएगी। ऐसे वकील तुरंत डराकर मोटी फीस वसूल लेते है, और जब कोई कानून की जानकारी मांगता भी है तो कहते है, “हमने तेरा केस लड़ने की फीस ली है तुझे कानून पढ़ाने की नही” और क्लाइंट खामोश हो जाता है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *