वजन कम करने से लेकर सर्दी-खांसी में भी है कारगर, क्रैनबेरी का सेवन

भारत के कई राज्यों और हिमालय के क्षेत्रों में पाया जाने वाला फल क्रैनबेरी, जिसे हिंदी में करौंदा कहा जाता है, बहुत ही स्वादिष्ट और फायदेमंद होता है। यह फल आकार में बहुत छोटा और देखने में गहरे गुलाबी रंग का होता है और खाने में थोड़ा मीठा लगता है। उच्च पोषक तत्वों और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होने के कारण इस फल को ‘सूपरफूड’ भी कहा जाता है। चूंकि इसकी तासीर गर्म होती है, इसलिए कहा जाता है कि सर्दियों में इसका सेवन अच्छा रहता है। कई जगहों पर तो इसकी सब्जी बनाकर भी खाई जाती है।

आइए जानते हैं क्रैनबेरी यानी करौंदा के सेवन से होने वाले फायदों के बारे में

वजन को करता है कम

.करौंदा फाइबर से भरपूर होता है, इसलिए इसके सेवन से लंबे समय तक भूख नहीं लगती है। इसका मतलब ये हुआ कि आपका पेट लंबे समय तक भरा हुआ रहता है। इसका रस वजन घटाने में लाभकारी होता है। इसलिए अगर आप अपना वजन घटाने की सोच रहे हैं तो करौंदा का जूस जरूर पिएं…

मस्तिष्क के लिए अच्छा होता है यह फल

.इस फल को मस्तिष्क के लिए भी अच्छा माना जाता है। दरअसल, इसमें मौजदू एंटीऑक्सीडेंट और सूजन को कम करने वाले यौगिक स्मृति में सुधार करने का काम करते हैं। इसलिए अगर आप अपनी मेमोरी को तेज करना चाहते हैं तो क्रैनबेरी यानी करौंदा का सेवन जरूर करें।

हृदय रोग का खतरा करता है कम
.करौंदा के सेवन से हृदय रोग का खतरा कम होता है। एक अध्ययन के मुताबिक, रोजाना एक गिलास करौंदा के रस का सेवन करने से एचडीएल कोलेस्ट्ऱॉल का स्तर बढ़ता है। दरअसल, एचडीएल कोलेस्ट्रॉल की मात्रा का अधिक होना अच्छा संकेत होता है, क्योंकि इससे हृदय के स्वस्थ होने का पता चलता है…|

करौंदा के और भी हैं कई फायदे

.दस्त से लेकर सर्दी और खांसी से लड़ने में यह फल उपयोगी माना जाता है। इसके अलावा यह खून को साफ करता है और रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है। आयरन से भरपूर होने के कारण यह एनीमिया के मरीजों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है….!

Leave a Reply

Your email address will not be published.