वास्तु अनुसार घर में नहीं होनी चाहिए ये चीजें, धन हानि का है संकेत

वास्तुकला का सभी के जीवन में विशेष महत्व है, क्योंकि एक ही वास्तुकला बताती है कि घर में सकारात्मक ऊर्जा कैसे प्रवेश करती है और क्या यह घर में नकारात्मकता का कारण बनती है। जिस तरह वास्तुकला सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने का सुझाव देती है, उसी तरह वास्तुकला में कई चीजें नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए सोचा जाता है।

घर में बढ़ती नकारात्मक ऊर्जा के कारण, धन हानि और असहमति शुरू होती है, वास्तु के अनुसार, वास्तु दोषों के कारण घर में बाधाएं आती हैं, घर में कुछ वास्तु दोष हैं जिन्हें हटाने की आवश्यकता है, इसलिए आज हम आपको बताएंगे कि आप हमें बताने जा रहे हैं।

वास्तुकला में, एक बंद या टूटी हुई घड़ी को बहुत बुरा कहा जाता है, ऐसी स्थिति में, एक बंद घड़ी को घर से मरम्मत या हटा दिया जाना चाहिए। घर में बंद घड़ी रखना अनैतिक माना जाता है। ऐसी घड़ी प्रगति को बाधित करेगी। शास्त्रों में शिवलिंग की पूजा का विशेष महत्व है क्योंकि मंदिर में शिवलिंग की पूजा करना लाभदायक होता है, लेकिन वास्तु के अनुसार शिवलिंग को घर में नहीं रखना चाहिए।

यदि दर्पण, खिड़की या दरवाजे के शीशे टूट गए हैं, तो उन्हें जल्द से जल्द बदल दिया जाना चाहिए। टूटा हुआ कांच रिश्तों के साथ-साथ राजस्व अवरोध भी पैदा करता है। टूटे हुए बर्तन और दोषपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक सामान को घर में नहीं रखना चाहिए। इसे वास्तुकला में त्रुटि माना जाता है। यह घर में शांति, शांति और धन के लिए एक बाधा है।

यदि दर्पण, खिड़की या दरवाजे के शीशे टूट गए हैं, तो उन्हें जल्द से जल्द बदल दिया जाना चाहिए। टूटा हुआ कांच रिश्तों के साथ-साथ राजस्व अवरोध भी पैदा करता है। टूटे हुए बर्तन और दोषपूर्ण इलेक्ट्रॉनिक सामान को घर में नहीं रखना चाहिए। इसे वास्तुकला में त्रुटि माना जाता है। यह घर में शांति, शांति और धन के लिए एक बाधा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.