वीपीएस VPS क्या होता है इस का फुल फॉर्म क्या होता है?

आज हम आपको बताने वाले हैं वीपीएस VPS क्या होता है VPS कैसे काम करता है VPS का फुल फॉर्म क्या होता है इसका उद्देश्य क्या है इसकी खोज कब की गई इसके बारे में हम आपको विस्तार पूर्वक बताने वाले हैं तो चलिए आपको इसके बारे में जानकारी देते हैं।

विजुअल प्राइवेट सर्वर VPS क्या होता है

आपको बता दें विजुअल प्राइवेट सर्वर  VPS होता है जहा फिजिकल स्पेस होता है जहां आप अपनी वेबसाइट और उसके डाटा को सुरक्षित रख सकते हैं और अपनी वेबसाइट को चला सकते हैं और अपनी वेबसाइट को अलग-अलग तरीके से डिजाइन कर सकते हैं और अपने नए नए क्लाइंट बनाकर उन्हें नई नई वेबसाइट के बारे में बता सकते हैं.

आपको बता दें कि इसमें आपको अलग-अलग होस्टिंग दी जाती है जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं सबसे पहले आती है..

 शेयर्ड होस्टिंग शेयर्ड होस्टिंग वह होती है जहां फिजिकल सर्वर को सैकड़ों लोग एक साथ यूज़ करते हैं और अपने डेटा को उसके साथ शेयर करते हैं मतलब अगर आप शेयर्ड होस्टिंग खरीदते हैं तो आप अपनी वेबसाइट को होस्ट करने के लिए वेबसाइट सर्वर देगी लेकिन उसने कम स्पेस देगी जिसमें बहुत सारे दूसरे लोग  भीअपनी वेबसाइट रन कर रहे होते हैं। इसलिए इस प्रकार के सरवर में सभी क्लाइड उस विशेष सरवर के प्रमुख संसाधनों का उपयोग करते हैं जैसे कि सीपीयू रैम डिस्क स्पेस आदि का उपयोग करके अपनी वेबसाइट को चलाते हैं जिसे हम शेयर होस्टिंग कहते हैं शेयर्ड होस्टिंग में सिक्योरिटी का इशू  होता है डाटा लीक होने का इशू  होता है.

इसलिए यदि आप अपनी बड़ी वेबसाइट डिजाइन कर रहे हैं और आपके पास बहुत सारा डाटा है तो आपको शेयर होइस्टिंग लेने से बचना चाहिए क्योंकि इसमें आपके साइड चल नहीं सकती बल्कि आपका डाटा भी लीक हो सकता है इसलिए शेयर होस्टिंग सिर्फ उनके लिए है जो न्यू ब्लॉगर है जिन्हें कुछ सीखने के लिए चाहिए उनके लिए शेयर होस्टिंग अच्छा ऑप्शन होती है

डेडिकेट सर्वर प्राइवेट सर्वर क्या होता है।

आपको बता दें कि डेडिकेट सर्वर होस्टिंग को ही हम प्राइवेट होस्टिंग सर्वर कहते हैं इस तरह की होस्टिंग में एक सर्वर पर एक ही क्लाइंट होता है जिसमें वह है मल्टीटास्किंग मल्टी वेबसाइट होस्ट कर सकता है जिसमें उसे बहुत सारे रिसोर्सेज यूज करने को मिलते हैं जैसे कि सीपीयू ,रेम  स्पेस इत्यादि केवल एक ही क्लाइंट यूज़ कर सकता है डेडिकेट सर्वर को सिक्योरिटी लेवल हाई होती है जिसे कोई भी डाटा लीक होने की संभावना नहीं होती कोई भी दूसरा आदमी से आसानी से एक्सेस नहीं कर सकता तो सिक्योरिटी के मुकाबले डेडीकेटेड सर्वर बहुत ही अच्छे होते हैं लेकिन इसकी बहुत बड़ी खामी यह है कि यह बहुत ही महंगा होता है इसे हर कोई आसानी से खरीद नहीं सकता इसलिए छोटे ब्लॉगर है इसे नहीं खरीदते हैं.

आगे हम बताने वाले हैं वर्चुअल प्राइवेट सर्वर यानी कि वीपीएस सर्वर किसे कहते हैं यह कैसे काम करता है जैसा कि आप सभी जानते हैं कि डेडिकेटेड प्राइवेट सर्वर बहुत ही महंगे होते हैं जिसे हर किसी को खरीदना बस की बात नहीं है इसलिए लोग इसे लेना पसंद नहीं करते हैं लोग बीपीएस पर जाना ज्यादा पसंद करते हैं क्योंकि इसमें हर एक पार्टी को अलग-अलग सीपीयू, रैम और डिस्क स्पेस दिया जाता है जिसके द्वारा वह अपनी वेबसाइट को होस्ट कर सकता है और बहुत सारे डेटा को स्टोर कर सकता है जिसे हम वीपीएस सर्वर के द्वारा आसानी से मैनेज कर सकते हैं आपको बता दें कि बीपीएल सर्वे में सिक्योरिटी लेवल भी हाई होता है इसमें आपका डाटा लीक होने की कोई संभावना नहीं होती है प्रत्येक vps  का ऑपरेटिंग सिस्टम होता है तो अन्य vps पूरी तरह इससे अलग बनाता है।

आपको बता दें कि वीपीएस सर्वर लेने से आपको बहुत सारे बेहतरीन फायदे होंगे आप का खर्च भी बचेगा और आप आसानी से अपनी वेबसाइट भी होस्ट कर सकते हैं यदि आप अपनी वेबसाइट के डाटा को और इनक्रीस करना चाहते हैं तो इसमें पहले से ही सॉफ्टवेयर इंस्टॉल होते हैं जिससे कि आप आसानी से इसे अपग्रेड भी कर सकते हैं वीपीएस होस्टिंग में आपकी होस्टिंग कंपनी आपको हार्डवेयर और अन्य चीजें माहिया करवाती है जिसके जरिए आप आसानी से अगर डाटा को स्टोर कर सकते हैं आप चाहे बीपीएस में जितने भी वेबसाइट होस्ट करना चाहे कर सकते हैं यहां पर कोई भी रोक टोक नहीं है कि आप एक ही वेबसाइट पोस्ट कर सकते हैं आप मन चाहे जितनी भी अब साइड और कर सकते हैं अपने अनुसार उसे अपग्रेड कर सर करवा सकते हैं,

मैनेज्ड और अनमैनेज्ड वीपीएस होस्टिंग क्या होती है.

 आपको बता दें कि जब भी हम पोस्टिंग खरीदते हैं तो है अनमैरिड पोस्टिंग होती है जिसने आपको बहुत सारी टेक्निकल सेटिंग करने के बाद ही वह मैनेज वेबसाइट बन पाती है जिसमें हमें अपनी पुरानी वेबसाइट का डाटा ट्रांसफर करना हो

Leave a Reply

Your email address will not be published.