शरीर को रखे निरोग, नीम के पत्ते को सुबह खाली पेट खाने से ख़त्म होते हैं ये रोग, जरुर जानें

नीम में इतने गुण पाए जाते हैं कि ये कई प्रकार के रोगों के इलाज में काम आता हैं. जो लोग मानना हैं कि इसको भारत में “गाँव का दवाखाना” भी कहा जाता हैं. नीम को संस्कृत में “अरिष्ट” भी कहा जाता हैं. जिसका अर्थ होता हैं. ‘श्रेष्ट’ पूर्ण तथा कभी ख़राब न होने वाला होता हैं. नीम के अर्क में मधुमेह जैसे डायबिटीज, बैक्टीरिया तथा वायरस से लड़ने के कई गुण पाए जाते हैं. नीम के तने, जड़, छाल और कच्चे फलों मेंशक्ति-वर्धकमियादी रोगों से लड़ने का गुण मौजूद होते हैं. नीम के छाल मलेरिया और त्वचा से संबंधी रोगों में बहुत उपयोगी साबित होगा हैं.

नीम के पत्ते भारत से बाहर लगभग 34 देशो को निर्यात करती हैं. नीम के पत्ते में मौजूद बैक्टीरिया से लड़ने वाले गुण पाए जाते हैं. जैसे कि मुंहासे, छाले, खाज-खुजली, एकिज्मा वगैरह को भी दूर करने में लाभकारी साबित होता हैं.

नीम के बारे में उपलब्ध प्राचीन ग्रंथो में इसके बारे में फल, बीज, तेल, जड़, और छिलके में बिमारियों से लड़ने के कई फायदेमंद गुण मौजूद होते हैं. इस पेट का हर भाग इतना लाभकारी साबित होता हैं. कि संस्कृत में इसको एक यथायोग्य के नाम से प्रषिद्ध हैं. –

“सर्व-रोग-निवारिणी” यानि ‘सभी बिमारियों की दवा’ लाखो दुखो की एक दवा.

बैक्टीरिया से लड़ने में लाभकारी नीम – दुनिया में लाखो-करोड़ो बैक्टीरिया मौजूद होते हैं. यहाँ तक कि हमारा शरीर भी बैक्टीरिया से भरा हुआ हैं. एक स्वास्थ्य मानव में लगभग दस खरब कोशिकाएँ मौजूद होते हैं. इसके साथ ही लगभग सौ खरब से भी अधिक हमारे शरीर में बैक्टीरिया पाए जाते हैं. आपके शरीर के अन्दर इतने जीव हैं. कि आप कल्पना भी नहीं कर सकते हैं.

ये सब बैक्टीरियों में से कुछ बैक्टीरिया ऐसे होते हैं. जो हमारे शरीर के लिए फायदेमंद भी होते हैं. जिसके कारण हम जिंदा रहते हैं. लेकिन दोस्तों कुछ ऐसे भी बैक्टीरिया भी होते हैं. जो हमारे शरीर के लिए खतरनाक साबित हो सकता हैं. अगर आप रोजाना नीम के पत्ते का सेवन करते हैं तो ये सब हानिकारक बैक्टीरिया को आपकी आंतों में ही ख़त्म हो सकते हैं.

एलर्जी में लाभकारी नींम के पत्ते – नीम के पत्तों को अच्छे से पीस कर उसे एक पेस्ट बना लें, उस पेस्ट को छोटे-छोटे गोली बना कर रोजाना सुबह-सुबह बिना कुछ खाए उस गोली को सहद में डुबा कर सेवन करें. कुछ देरी तक कुछ भी ना खाए. जिससे पेट के अन्दर नींम अच्छे तरह से आपके सिस्टम से गुजर सके. ऐसे करने से कई तरह के एलर्जी- त्वचा की, किसी तरह के भोजन से होनेवाली या किसी प्रकार की- में यह फायदा करता हैं. इसका सेवन आप हमेशा ले सकते हैं. इसे कोई भी नुकसान नहीं हो सकता हैं. अगर आपको नीम ज्यादा कड़वा लगता हैं. तो नीम के पत्ते को छोटे-छोटे हिस्सों में करके सेवन करें ऐसे करने से कड़वा कम लगेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.