शिवलिंग पर क्या चढ़ाना चाहिए?

घी- शिवलिंग पर घी चढ़ाने से हमें तेज की प्राप्ति होती है। शक्कर- शिवलिंग पर शक्कर चढ़ाने से सुख – समृद्धि और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है। ईत्र- शिवलिंग पर ईत्र चढ़ाने से धर्म की प्राप्ति होती हैं। सुगंधित तेल- शिवलिंग पर सुगंधित तेल चढ़ाने से धन धान्य की वृद्धि होती है।

शिव या महादेव त्रिदेवों में एक देव हैं। इन्हें देवों के देव महादेव भी कहते हैं। इन्हें भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ, गंगाधार आदि नामों से भी जाना जाता है। भगवान शिव को संहार का देवता कहा जाता है। भगवान शिव सौम्य आकृति एवं रौद्ररूप दोनों के लिए विख्यात हैं। अन्य देवों से शिव को भिन्न माना गया है। सृष्टि की उत्पत्ति, स्थिति एवं संहार के अधिपति शिव हैं। त्रिदेवों में भगवान शिव संहार के देवता माने गए हैं।

भगवान शिव को संहार का देवता कहा जाता है। भगवान शिव सौम्य आकृति एवं रौद्ररूप दोनों के लिए विख्यात हैं। अन्य देवों से शिव को भिन्न माना गया है। सृष्टि की उत्पत्ति, स्थिति एवं संहार के अधिपति शिव हैं। त्रिदेवों में भगवान शिव संहार के देवता माने गए हैं। कुछ ऐसे ही छोटे और अचूक उपायों के बारे शिवपुराण में भी लिखा है। ये उपाय इतने सरल हैं कि इन्हें बड़ी ही आसानी से किया जा सकता है। हर समस्या के समाधान के लिए शिवपुराण में उपाय बताए गए हैं। शिवपुराण के अनुसार, जानिए भगवान शिव को कौन सा रस (द्रव्य) व फूल चढ़ाने से क्या फल मिलता है।

दूध- शिवलिंग पर दूध अर्पित करने से आरोग्य की प्राप्ति होती है |

दही- शिवलिंग पर दही अर्पित करने से हमें जीवन में हर्ष और उल्लास की प्राप्ति होती है ।

शहद- शिवलिंग पर शहद चढ़ाने से रूप और सौंदर्य प्राप्त होता है। वाणी में मिठास रहती है। समाज में लोकप्रियता बढ़ती है ।

घी- शिवलिंग पर घी चढ़ाने से हमें तेज की प्राप्ति होती है।

शक्कर- शिवलिंग पर शक्कर चढ़ाने से सुख – समृद्धि और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।

ईत्र- शिवलिंग पर ईत्र चढ़ाने से धर्म की प्राप्ति होती हैं।

सुगंधित तेल- शिवलिंग पर सुगंधित तेल चढ़ाने से धन धान्य की वृद्धि होती है। जीवन में सभी भौतिक सुखों की प्राप्ति होती है ।

चंदन- शिवलिंग पर चंदन चढ़ाने से समाज में यश और मान-सम्मान की प्राप्ति होती है।

केशर- शिवलिंग पर केशर अर्पित करने से दाम्पत्य जीवन सुखमय होता है , विवाह में आने वाली समस्त अड़चने दूर होती है, मनचाहा जीवन साथी प्राप्त होता है विवाह के योग शीघ्र बनते है ।

भांग- शिवलिंग पर भांग चढ़ाने से हमारे समस्त पाप समस्त बुराइयां दूर होती हैं।

धतूरे- भगवान भोलेनाथ की धतूरे से पूजन करने पर भगवान शंकर सुयोग्य पुत्र प्रदान करते हैं, जो कुल का नाम रोशन करता है।

आंवला अथवा आंवले का रस- शिवलिंग पर आंवला अथवा आंवले का रस चढ़ाने से दीर्घ आयु प्राप्त होती है ।

गन्ने का रस- शिवलिंग पर गन्ने का रस चढ़ाने से समस्त पारिवारिक सुखो की प्राप्ति होती है , परिवार के सदस्यों के मध्य में प्रेम बना रहता है ।

गेहूं- शिवलिंग पर गेहूं चढ़ाने से वंश वृद्धि होती है, योग्य संतान की प्राप्ति होती है, संतान आज्ञाकारी होती है ।

चावल- शिवलिंग पर चावल चढ़ाने से धन और सुख समृद्धि की प्राप्ति होती है।

तिल- शिवलिंग पर तिल चढ़ाने से पापों समस्त रोगो का नाश होता है।

जौ- शिवलिंग पर जौ अर्पित करने से सांसारिक सुखो की प्राप्ति होती है ।

बेलपत्र- भगवान भोलेनाथ की बेलपत्र से पूजा करने से सभी संकट दूर होते है ।

दूर्वा- भगवान भोलेनाथ की दूर्वा से पूजन करने दीर्घ आयु की प्राप्ति होती है।

हरसिंगार के फूल- भगवान भोलेनाथ की हरसिंगार के फूलों से पूजन करने पर जीवन में सुख-संपत्ति और ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है।

चमेली के फूल- भगवान भोलेनाथ पर चमेली के फूल चढ़ाने से सुख समृद्धि प्राप्त होती है।

आंकड़े के फूल- भगवान भोलेनाथ की आंकड़े के फूल से पूजन, श्रंगार करने से जीवन के सभी सुख मिलते है, पितरों को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

अलसी के फूल- भगवान भोलेनाथ की अलसी के फूलों से पूजन करने से मनुष्य सभी देवताओं का प्रिय हो जाता है।

बेला के फूल- भगवान भोलेनाथ की बेला के फूल से पूजन करने पर मनचाहा, सुंदर जीवनसाथी मिलता है।

जूही के फूल- भगवान भोलेनाथ की जूही के फूल से पूजन करने से घर कारोबार में धन धान्य की कोई भी कमी नहीं होती है।

भोलेनाथ को अरहर दाल के पत्‍ते और अरहर की दाल चढ़ाना अत्‍यंत शुभ होता है। जो भी जातक श‍िवजी को न‍ियम‍ित रूप से अरहर दाल के पत्‍ते या फिर अरहर की दाल चढ़ाते हैं उनके जीवन में धन-ऐश्‍वर्य और सुख-समृद्धि की वृद्धि होती है। इसके अलावा दु:खों से भी राहत म‍िलती है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *