‘सतयुग’ (पहला), ‘द्वापर’ (दूसरा), ‘त्रेता’ (तीसरा), तो त्रेता युग, द्वापर युग से पहले क्यों आया? जानिए

भगवत पुराण में, यह कहा गया है कि धर्म चार स्तंभों पर खड़ा है जैसे कि एक बैल अपने चार पैरों पर कैसे खड़ा होता है। यह चार स्तंभ हैं सत्यता, तपस्या, पवित्रता और दयालुता। सत्ययुग पहला युग था।


इस युग में सभी चार स्तंभ मौजूद थे और सत्य आधार था। इसलिए इसे सत्ययुग नाम दिया गया। सत्ययुग की समाप्ति के बाद त्रेतायुग आया। इस युग में, सत्य का स्तंभ गायब हो गया और केवल तीन स्तंभ मौजूद थे। इस प्रकार, इसे त्रेतायुग नाम दिया गया। त्रेतायुग की समाप्ति के बाद, द्वापरयुग आ गया। इस युग में, दो स्तंभ, सत्य और तपस्या गायब हो गए। चूंकि, यह युग दो स्तंभों पर खड़ा था, इसलिए इसका नाम द्वापरयुग रखा गया।


जिस युग में हम रह रहे हैं वह दया के एक स्तंभ और पाप के अन्य तीन भागों में खड़ा है। इस प्रकार इसका नाम कलियुग रखा गया। कलयुग में दान सबसे महत्वपूर्ण है।
इस प्रकार, धर्म के प्रत्येक स्तंभ के गायब होने से युग के नामकरण का आधार बन गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.