क्या आप भी अपनी उंगलियां चटकाते है तो हो जाइए सावधान, नहीं तो पड़ेगा पछताना

कुछ आदतें हमारे जीवन में आम हैं। लेकिन जैसे-जैसे हम बड़े होते जाते हैं, ये आदतें हम पर हावी होती जाती हैं। उनमें से एक है आपकी उंगलियां काटने की आदत।

उनमें से कुछ हाथों और पैर की उंगलियों के साथ गर्दन को काटते हैं। इससे हड्डियों की बीमारी हो सकती है। कुछ लोग गलती से हड्डियों को तोड़ देते हैं।

जब हम अपनी उंगलियों को खींचते हैं, तो जोड़ों के बीच के बुलबुले फट जाते हैं। इससे हड्डियां टूटने लगती हैं। इन बुलबुले को फिर से बनने में 20 से 30 मिनट लगते हैं। इसलिए, एक बार जब हड्डियां टूट जाती हैं, तो उसमें फिर से कोई आवाज नहीं होती है।

जब हड्डियों को बार-बार दिखाया जाता है। जोड़ों के बीच की पकड़ धीरे-धीरे कमजोर होने लगती है। हड्डियों के बीच का ऊतक भी धीरे-धीरे सड़ने लगता है। हमें बताएं कि हड्डियों को कैसे खत्म किया जाए।

हाथों को व्यस्त रखें:

अगर आपको अपनी उंगलियों को दबाने से खुद को रोकना है, तो आपको खुद को किसी काम में व्यस्त रखना होगा। जब आपके हाथ खाली हों, तो आपको अपने आस-पास की किसी भी वस्तु से खेलना शुरू कर देना चाहिए। ताकि आपका ध्यान अंगुलियों को चटकाने से हट जाए।

आप अपने कार्यालय में बैठे हैं। इसलिए आपको अपना पेन लेना चाहिए और कुछ भी लिखना शुरू करना चाहिए या कोई भी चित्र बनाना शुरू करना चाहिए। यह आपका ध्यान उंगलियों पर केंद्रित नहीं करता है। धीरे-धीरे आप इस आदत को खो देते हैं

खुद पर ध्यान दें

पार की गई उंगलियां एक बुरी आदत है। यह आपके कमजोर विश्वास का संकेत है। यदि आप इस आदत को नहीं रोकते हैं, तो आपको गठिया भी हो सकता है। हमारी उंगलियां चाहे कितनी भी दर्दनाक क्यों न हों, हमें अपनी उंगलियों को नहीं काटना चाहिए। हमें समय-समय पर खुद पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है ताकि हम गलती से कहीं उंगली न दबाएं।

सामान्य तौर पर, यह देखा गया है कि घरों में महिलाओं का स्वास्थ्य बहुत खराब है। यदि अधिक उपचार प्राप्त करने के बाद भी परिवार के सदस्यों का स्वास्थ्य खराब है। तो कभी-कभी इसका कारण हमारे घर का वास्तु दोष हो सकता है। इसलिए डरने की कोई जरूरत नहीं है। आप अपने घर में पूर्ण परिवर्तन करके अपने परिवार के सदस्यों की रक्षा कर सकते हैं।

आर्किटेक्ट बताते हैं कि खाना पकाने के लिए आपकी रसोई में इस्तेमाल होने वाला गैस सिलेंडर या चूल्हा कभी भी उत्तर दिशा की तरफ नहीं होना चाहिए। क्योंकि ऐसी रसोई में काम करने वाली महिला का स्वास्थ्य कभी भी परिपूर्ण नहीं होता है। इसलिए गैस स्टोव या स्टोव को पूर्व की ओर मुख करके रखना चाहिए।

भोजन तैयार करते समय यदि ग्रहणी का मुंह दक्षिण की ओर हो, तो उसके शरीर में दर्द होगा। इसके अलावा, उसे कभी भी मानसिक शांति नहीं मिलती है। उसे मानसिक और शारीरिक बीमारियाँ भी हो सकती हैं। यदि घर की ग्रहणी पश्चिम दिशा की ओर पकाई जाती है। तो उसकी आंख, नाक, कान और गले में दर्द हो सकता है। इसलिए, भोजन पूर्व की ओर मुंह करके तैयार किया जाना चाहिए।

कुछ लोग अपने घर की रसोई में कांच लगाते हैं। इससे आपका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। किचन में चमकना शुभ नहीं है। यदि आप रसोई में दर्पण रखते हैं, तो घर पर काम करने वाली महिलाओं को कमर, पेट या मस्तिष्क के रोग होते हैं। परिवार के सदस्यों के बीच लड़ाई तेज हो जाती है। यदि आप चाहते हैं कि आपके परिवार के सदस्य एक-दूसरे के साथ मेल-जोल से रहें, तो रसोई में कभी भी शीशा न लगाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.