सेहत के लिए लाल प्याज खाना या सफेद प्याज खाना कौन सा बेहतर होता है? जानिए

घर के खाने में अधिकतर लाल प्याज का इस्तेमाल होता है, जबकी रेस्टोरेंट में आमतौर पर सफेद प्याज की माँग अधिक होती है |

कौन सा प्याज खाना बहतर है, इसका जवाब देने से पहले हम इनके मूल अंतर को देखते हैं…

# प्याज में लाल रंग अंथोसायनीन से आता है, जो सफेद प्याज में नहीं होता |

# अलील प्रोपिल डाय सल्फाइड से प्याज तिखा होता है | इस की मात्रा सफेद प्याज में अधिक होने से यह अधिक तिखा होता है |

# लाल प्याज कम तिखा होने से इसका प्रयोग सॅलड के लिए किया जाता है |

# लाल प्याज सफेद प्याज के मुकाबले अधिक ढिला ( बनावट में) होता है | सफेद प्याज अधिक टाइट होने के कारण जल्दी नही सड़ता |

# लाल प्याज जल्दी खराब होने की वजह से ज्यादा समय के लिए नहीं रखे जा सकते | वहीं सफेद प्याज दुगने समय तक रखें जा सकतें हैं |

# प्रक्रिया उद्योग में सफेद प्याज की अधिकार माँग है | हॉटेल में आयात मसालों की माँग अधिक होने से प्याज का मसाला, पेस्ट या सुखे प्याज की माँग रहतीं है |

# गर्मियों में तेज धूप से बचने में भी सफेद प्याज कारगर है! सफेद प्याज के रस को सिर, हाथ और पांव के पंजों में मालिश करने से धूप में राहत रहतीं है |

# सफेद प्याज में मौजूद मिथिल सल्फाइड और अमिनो एसिड से कोलेस्ट्रॉल की मात्रा संतुलित रखने में भी मदद मिलती है | तथा लो ब्लडप्रेशर को नॉरमल करने में भी बेहद कारगर है |

# सर्दी या कफ से निजात पाने के लिए, प्याज़ के रस में गुड़ और थोड़ा शहद मिलाकर चाटने से तुरंत गुण मिलतें है |

# पुरूषों में वीर्यपात बढ़ाने में भी प्याज मददगार साबित होता है!

# प्याज़ में पाए जाने वाले सल्फर और अन्य flavonoids से खून में चीनी की मात्रा कम करने तथा खून पतला करने में मदद मिलती है | इसी प्रकार यह गुण कैंसर को भी बढ़ने से बचाता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published.