स्मार्टफोन में 3GB RAM, 4GB RAM, 6GB RAM, RAM का क्या महत्व या काम रहता है?

आज के डिजिटल दौर में 12GB की रैम के साथ भी स्मार्टफोंस को लॉन्च किया जा चुका है। यह रैम किसी गेमिंग PC में मौजूद रैम से कहीं ज्यादा है। हालाँकि दुनिया में 8GB और 6GB रैम वाले स्मार्टफोंस भी हैं। तो ऐसे में सवाल उठता है। कि एक स्मार्टफोन में 10GB या 12GB रैम क्या मतलब है, क्योंकि ऐसा ही काम तो एक 4GB रैम वाला स्मार्टफोन भी करता है, तो क्यों हमें इतनी ज्यादा रैम की जरूरत है?

तो मैं बताना चाहता हूं।की RAM (रैंडम एक्सेस मेमोरी) अल्पकालिक डिजिटल स्टोरेज है। रैम का उपयोग ज्यादातर उन डेटा को रखने के लिए किया जाता है जो सक्रिय एप्लिकेशन – सीपीयू और ऑपरेटिंग सिस्टम के कर्नेल के साथ – उपयोग किया जाता है।

आज कल ज्यादातर फोन में Os के हिसाब से रैम दिया जाता हैं

यदि आप Android का उपयोग कर रहे हैं, तो आपको iOS से अधिक RAM की आवश्यकता होगी। दुर्भाग्य से एंड्रॉइड उपयोगकर्ताओं के लिए, एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम आईओएस की तुलना में थोड़ी अधिक मेमोरी है। इसका मुकाबला करने के लिए, ज्यादातर Android निर्माता अपने स्मार्टफ़ोन में Apple की तुलना में अधिक RAM शामिल करते हैं। उदाहरण के लिए Samsung Galaxy S9 में आपको 4GB की रैम मिल रही है, इसके स्थान पर iPhone 8 में आपको मात्र 2GB की रैम ही मिल रही है। हालाँकि इस समय iPhone कुछ ज्यादा रैम के साथ आने लगे हैं। यहाँ इस बड़े अंतर को आप देख सकते हैं, इसका साफ़ मतलब है कि आपको एंड्राइड फोंस के लिए ज्यादा रैम की जरूरत होती है।

यदि आप प्रतिदिन कई ऐप का उपयोग करते हैं, तो आपको RAM का उपयोग 2.5-3.5GB से अधिक जरूरत नहीं होगा। इसका मतलब है कि 4 जीबी रैम वाला स्मार्टफोन आपको दुनिया के किसी भी कोने में आपको पसंदीदा ऐप को आसानी से प्रयोग कर सकते हैं। असल में हम रोजमर्रा में जितना काम करते हैं, उसके लिए हमें ज्यादा रैम की जरूरत नहीं है। लेकिन जब बात स्पीड की आती है तो हमें कहीं न कहीं एक ऐसे स्मार्टफोन की तलाश होती है जो कभी भी हैंग न करता हो, तो हम ज्यादा रैम वाले स्मार्टफोन की ओर दौड़ने लग जाते हैं। हालाँकि जरूरत के हिसाब से हम 4GB रैम वाले स्मार्टफोन में भी सब कुछ कर सकते हैं, इसमें गेमिंग भी बढ़िया की जा सकती है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *