हवा में ही बंद हो गया था प्लेन का इंजन, रतन टाटा ने कैसे करवाई थी सेफ लैंडिंग? जानिए

देश के दिग्गज कारोबारी और टाटा ग्रुप (Tata Group) के चेयरमैन रतन टाटा (Ratan Tata) प्लेन उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा बहुत कम उम्र से ही प्लेन उड़ा रहे हैं। उन्होंने महज 17 साल की उम्र में ही एक ऐसे प्लेन की सुरक्षित लैंडिंग करवाई थी, जिसका इंजन उड़ान के दौरान काम करना बंद कर चुका था।

रतन टाटा सिर्फ सामान्य विमान ही नहीं उड़ाते, बल्कि वे F-16 जैसे फाइटर जेट भी उड़ा चुके हैं।

जिस उम्र में आम तौर पर पायलट रिटायर हो जाते हैं, रतन टाटा उससे भी ज्यादा उम्र होने के बावजूद बहुत ही उत्साह के साथ प्लेन उड़ाते हैं। प्लेन उड़ाना उनका पुराना शौक है।

रतन टाटा ने कई मौकों पर युद्धक विमानों को उड़ाया है। वे देश के पहले उद्योगपति हैं, जिन्हें वॉर प्लेन उड़ाने का मौका मिला है। रतन टाटा बहुत ही कम उम्र से खतरनाक परिस्थितियों में भी विमान उड़ाते रहे हैं।

आम तौर पर सभी पायलट को युद्धक विमान उड़ाने की अनुमति नहीं मिलती है। लेकिन रतन टाटा को हर तरह के विमानों को उड़ाने में महारत हासिल है। उन्हें विमान उड़ाने का यह शौक विरासत में मिला है।

रतन टाटा ने टाटा ग्रुप की एयरलाइन्स कंपनी के एक विमान पर जेआरडी टाटा का चित्र बनवा रखा है। जेआरडी टाटा भारत के पहले लाइसेंसशुदा पायलट थे और उन्होंने ही देश में पहली बार विमान सेवा की शुरुआत की थी। इस तस्वीर में रतन टाटा अपने ग्रुप की एयरलाइन्स कंपनी के स्टाफ के साथ नजर आ रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.