हार्ले डेविडसन के भारत से जाने का क्या कारण है?

हार्ले-डेविडसन को अक्सर H-D या हार्ले कहते हैं, ऐ एक अमेरिकी मोटरसाइकिल निर्माता है।

हार्ले-डेविडसन ने अगस्त 2009 में भारत में कदम रखा था। जुलाई 2010 में कंपनी ने भारत में अपनी पहली डीलरशिप की शुरुआत की थी।

हार्ले-डेविडसन बाइक की कीमत 8-9 लाख से शुरू होती थी |

हार्ले-डेविडसन की डीलरशिप का भारत में बड़ा नेटवर्क था ।इस कंपनी के देशभर में कुल 29 शोरूम थे जो देश के 21 अलग-अलग शहरों में स्थित थे और इनके ज़रिए कंपनी अपनी सेवाएं दे रही थी ।

दरअसल, हार्ले डेविडसन कंपनी को बीते कुश फाइनेंसियल ईयर में अपनी सेल में 22% की गिरावट देखने को मिली थी। ऐसे में कंपनी ने भारत को छोड़कर जाने और अमेरिका में अपने कारोबार को बढ़ाने का फैसला लिया है। हरियाणा के बावल में हार्ले डेविडसन की असेंबलिंग यूनिट थी।

2019 में हार्ले डेविडसन ने सिर्फ 2,676 बाइक्स ही बेची थीं। इनमें 65 फीसदी हिस्सेदारी 750 सीसी बाइक्स की है, जिनकी असेंबलिंग हरियाणा में होती थी। यहां और एक बात हे की कि बीते कुश सालों में भारत के बाजार को छोड़ने वाली हार्ले डेविडसन 7वीं बड़ी विदेशी ऑटोमोबाइल कंपनी है। भारत में बढ़ते घाटे के बाद ये बड़ी कंपनियां भारत के बाजार छोड़ रही है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *