हिमालय यव से कौन सा रसायन निकलता है?

कैंसर जैसी प्राणघातक बीमारी के इलाज में जान बचाने वाला औषधीय वृक्ष हिमालय यू (थुनेर) खतरे में है।

दवाओं में प्रयोग बढ़ने से इस पेड़ का अंधाधुंध दोहन इसे विलुप्ति की कगार पर ले आया है। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर इस वृक्ष को रेड लिस्ट में शामिल कर लिया गया है।

हिमालयन एरिया के जम्मू एंड कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, सिक्किम, उत्तराखंड और नॉर्थ ईस्ट में यह पेड़ बहुतायत में पाया जाता था।

सत् गूगल से

वर्ष 1991 में रिसर्च में यह बात सामने आई कि इसकी छाल से निकलने वाला रसायन ‘टैक्सॉल’ ब्रेस्ट कैंसर में जीवनरक्षक साबित हो सकता है।

इसके बाद यह पेड़ साल दर साल दोहन का शिकार होता चला गया।

पत्तियों से भी निकाल रहे टैक्सॉल
इस पेड़ पर शोध कर चुके आईसीएफआरई के वरिष्ठ वैज्ञानिक और चिकित्सा पौधों के विशेषज्ञ डॉ. एके शर्मा ने बताया कि पहले केवल छाल से ही टैक्सॉल निकाला जाता था लेकिन अब पत्तों का भी इस्तेमाल होने लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.