‌पान जलाकर खाने वाले का मुंह क्यों नहीं जलता है? जानिए वजह

दरअसल पान जलाकर खाना आमतौर पर गुजरात में काफी मशहूर है, लेकिन अब ये आपको लगभग सभी शहरों में देखने को मिल जाएंगे। जलाकर पान खाना आमतौर पर लोगों के बीच फायर पान के नाम से प्रसिद्ध है।

पहले जिसका गला खराब होता था वह लौंग को जलाकर पान खाना पसंद करता था, लेकिन उसमें मुंह जलने का खतरा होता था।

इससे बचने के लिए लोगों ने मीठे पान में बर्फ और उसके ऊपर ब्रास यानि सेमी पिपरमेंट रखकर उसे जलाते हैं। ये जलता पान जैसे मुंह में जाता है तो आग बुझ जाती है जिससे मुंह चलने का खतरा नहीं रहता है। साथ ही यह जलता हुआ पान मुंह में जाकर खासा ठंडक भी देता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.