25 हजार रुपये में मोदी सरकार की मदद से शुरू करें यह काम

पारंपरिक खेती से किसानों के लिए अच्छा पैसा कमाना मुश्किल है। यही कारण है कि युवा किसान अब गैर-पारंपरिक खेती की ओर रुख कर रहे हैं। यदि आप एक ऐसे खेत के बारे में जानना चाहते हैं जो मामूली लागत पर अच्छा जीवन यापन कर सकता है, तो चिंता न करें। आज हम आपको मोती की खेती के बारे में बताएंगे। खास बात यह है कि इस खेती के लिए सरकार भी आपकी मदद करेगी। इस खेती से कई लोग करोड़पति बन चुके हैं।

मोती की खेती के लिए क्या आवश्यकता होगी? मोती की खेती के लिए एक तालाब, सीप (जिससे मोती बनते हैं) और प्रशिक्षण, इन तीन चीजों की आवश्यकता होती है। यदि आप एक झील चाहते हैं, तो आप इसे स्वयं खोद सकते हैं या सरकार से 50 प्रतिशत सब्सिडी का लाभ उठा सकते हैं। सीप भारत के कई राज्यों में पाए जाते हैं। हालांकि, दक्षिण भारत और बिहार में दरभंगा सीप की गुणवत्ता अच्छी है। उनके प्रशिक्षण के लिए देश में कुछ संस्थान भी काम कर रहे हैं। मोती की खेती का प्रशिक्षण मध्य प्रदेश के होशंगाबाद और मुंबई से लिया जा सकता है।

जानिए मोतियों की खेती कैसे करें? सीपों को पहले रस्सी में बांधकर 10 से 15 दिन तक तालाब में रखा जाता है ताकि वे अपने हिसाब से वातावरण तैयार कर सकें, फिर उन्हें बाहर निकालकर उनकी सर्जरी की जाती है। मांसपेशियों को आराम देने के बाद, सीप की सतह में 2 से 3 मिमी का छेद बनाया जाता है और उसमें रेत का एक छोटा कण डाला जाता है। जब यह बालू का कण सीप से टकराता है तो सीप अपने से निकलने वाले पदार्थ को बालू के कण पर छोड़ना शुरू कर देता है। 25 हजार रुपए की लागत से शुरू एक सीप तैयार करने में 25 से 35 रुपये का खर्च आता है। तैयार होने पर एक सीप से दो मोती निकलते हैं और मोती कम से कम 120 रुपये में बिकते हैं। क्वालिटी अच्छी हो तो कीमत 200 रुपये से भी ज्यादा हो सकती है। एक एकड़ के तालाब में अगर आप 25,000 सीप डाल दें तो इसकी कीमत करीब 8 लाख रुपए आती है। यह मानते हुए कि कुछ सीप तैयार होने के लिए खराब हो जाते हैं, 50 प्रतिशत से अधिक सीप सुरक्षित हैं। तो कोई भी आसानी से सालाना 30 लाख रुपये कमा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.