सभी माता-पिता इस पक्षी से सीखे कैसे अपने बच्चों को बनाए आत्मनिर्भर

आपने जिंदगी में कुछ सीखने के लिए बहुत बार कुछ पढ़ा होगा या लोगो से मदद ली होगी अगर आपके कोई बच्चा है तो आप उसके भविष्य को लेकर चिंतित रहते होंगे।यहाँ वहाँ लोगो से सलाह लेते होंगे मगर कई बार प्रकृति हमको ऐसे उदाहरण दिखाती है जिन्हें देखकर हम बहुत कुछ सीख सकते है और उसे अपने जीवन मे उतार सकते हैं।

आप मे से बहुत से लोग टिटहरी नामक पक्षी को जानते होंगे मगर शायद ही कभी यह जिस तरीके से अपने बच्चों को पालता है उस पर गौर किया होगा असल मे टिटहरी एक ऐसा पक्षी हैं जो घोंसला जमीन पर ही बनाता है।

आमतौर पर दूसरे पक्षियों के बच्चे जब तक उड़ने में सक्षम न हो पक्षी उनको खुद खाना लाकर उनके मुह में डालते है मगर टिटहरी अपने छोटे-छोटे बच्चों को लेकर जल स्त्रोत के किनारे निकल पड़ती है वह बच्चों को खुद से खाना ढूंढने देती है बच्चे खुद खाना ढूंढ कर खाते हैं और दोनों टिटहरी मा बाप बच्चों से कुछ दूरी पर खड़े होकर उनको खतरों के बारे में सचेत करते रहते हैं।

जैसे ही कोई शत्रु आता है टिटहरी एक आवाज निकालती है और बच्चे सचेत होकर अपने आप को छुपा लेते हैं।जब तक वे उड़ने लायक ना हो जाए रोज माँ बाप कड़ी धूप में भी पूरी तरह से सचेत रह कर बच्चों को खुद से खाना ढूंढ कर अपना पेट भरना सिखाते रहते हैं ।जबकि वे जानते हैं कि ये बच्चे बड़े होकर एक दिन उड़ जाएंगे मनुष्यों की तरह उनको ये उम्मीद नही होती कि वे उनके बुढ़ापे का सहारा बनेंगे फिर भी उनका बच्चों के प्रति यह प्रेम देखकर आपका दिल भी भावुक हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.