ब्लैकबेरी खाने से होता है कैंसर से बचाव

ब्लैकबेरी में एंटीऑक्सीडेंट होते है जो कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने में मदद कर सकते हैं। ब्लैकबेरी फेफड़ों के कैंसर, कोलन (मलाशय) कैंसर और एसोफैगल (ग्रासनली) कैंसर आदि से बचाव में सहायक होता है। ब्लैकबेरी में मौजूद सूक्ष्म पोषक तत्वों में कीमो-निवारक प्रभाव होते हैं जो घातक कोशिकाओं को फैलने से रोकने में मदद करते हैं। ब्लैकबेरी पर किए गए विभिन्न वैज्ञानिक अध्ययनों के अनुसार इसमें मौजूद एंथोकाइनिन और अन्य फाइटोकेमिकल्स जैसे एलेजिक एसिड और साइनाइडिन -3-ग्लूकोसाइड कैंसररोधी तत्व के तौर पर काम करते हैं। ये तत्व ट्यूमर बढ़ने से रोकते हैं।

ऐसा कोई भी एक ‘सुपरफूड’ नहीं है जो कैंसर की रोक-थाम कर सकता है। लेकिन स्वस्थ आहार के सेवन से कैंसर का खतरा कम किया जा सकता है। न्यूट्रिशन एंड कैंसर जर्नल द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार ताजा ब्लैकबेरी के सेवन से ट्यूमर को बढ़ने और कैंसर को फैलने से रोकने में मदद मिल सकती है। हालांकि इस दिशा में और अनुसन्धान की जरूरत है।

ब्लैकबेरी में मौजूद विटामिन सी ज्यादा कोलेजन बनाने में मदद करता है। इससे बालों को मजबूती मिलती है। इसके एंटीऑक्सिडेंट गुण बालों को पर्यावरण के हानिकारक प्रभावों से बचाने और उनका मुकाबला करने में मदद करते हैं। इसका अर्क लगाने से बाल घने, चमकीले और आकर्षक बनते हैं।

ब्लैकबेरी का सेवन आपकी याददाश्त को बढ़ाने में भी मदद कर सकता है। इसका सेवन शरीर के संज्ञानात्मक कार्यों में सुधार करने के लिए लाभकारी पाया गया है। अध्ययनों के अनुसार ब्लैकबेरी में मौजूद पॉलीफेनोलिक तत्व जैसे सुपर एंटीऑक्सीडेंट उम्र से जुड़े बदलाव को धीमा करने और ज्ञान से जुड़े कार्यों को बढ़ाने में लाभकारी होते हैं। ब्लैकबेरी का नियमित रूप से सेवन याददाश्त बढ़ाने और स्नायविक सक्रियता बढ़ाने में उपयोगी साबित हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.