यदि आप महालक्ष्मी का व्रत नहीं रखते हैं, तो अंतिम दिन यह उपाय करें जरूर

महालक्ष्मी व्रत (महालक्ष्मी व्रत 2020) अष्टमी तिथि यानी आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की पितृपक्ष के दौरान समाप्त होता है। इस बार गुरुवार, 10 सितंबर को महालक्ष्मी व्रत का समापन होगा। मां महालक्ष्मी की कृपा पाने के लिए इस व्रत को विशेष माना जाता है।

महालक्ष्मी व्रत (महालक्ष्मी व्रत पूजा) आश्विन माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि तक चलती है। ऐसा माना जाता है कि अगर वह महालक्ष्मी व्रत को विधि और भक्ति के साथ पूरा करती है तो देवी लक्ष्मी बहुत खुश हो जाती हैं। मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और धन का भंडार हमेशा भरा रखने का आशीर्वाद देती हैं।

महालक्ष्मी व्रत की विधि क्या है?

महालक्ष्मी व्रत के समापन के दिन, स्नान करें और साफ कपड़े पहनें। चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर देवी लक्ष्मी की प्रतिमा को फैलाएं। दीपक जलाएं। महालक्ष्मी के माथे पर कुमकुम का तिलक लगाएं। माता महालक्ष्मी की स्तुति और चालीसा गाएं। फिर धूप, दीप, फूल और चंदन से देवी की आरती करें।

इसके बाद देवी लक्ष्मी को फल और मिठाई चढ़ाएं

और चंद्रोदय होने पर अर्घ्य अर्पित करें। इसके बाद व्रत समाप्त करें। इस दिन मां लक्ष्मी की विशेष कृपा आप पर भी बरस सकती है। निष्कर्ष के साथ, आपकी सभी वित्तीय कठिनाइयां भी समाप्त हो सकती हैं। यदि आपने किसी कारणवश यह व्रत नहीं किया है, तो कल 10 सितंबर को एक विशेष उपाय आपकी तिजोरी को भर सकता है।

ये उपाय करें

देवी महालक्ष्मी की मूर्ति स्थापित करें। उनके सामने घी का एक चौमुखा दीपक जलाएं। मां को सफेद मिठाई चढ़ाएं। साथ ही माता को गुलाबी धागा अर्पित करें। इसके बाद श्री सूक्तम् का पाठ करें। अगर मैं सोलह बार पढ़ सकता हूं, तो यह बहुत अच्छा होगा। इसके बाद अपनी कलाई या गर्दन के चारों ओर गुलाबी धागा रखें। कहा जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु ने लक्ष्मी जी को पाने का मार्ग दिखाया था। इस व्रत को गजलक्ष्मी व्रत भी कहा जाता है। हाथी की पूजा और महालक्ष्मी के गजलक्ष्मी रूप की पूजा गजलक्ष्मी व्रत के दिन की जाती है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *