अगर आपके हाथ पैर बार बार सुन्न पड़ रहें हैं तो मज़ाक में ना टाले

शरीर के किसी अंग पर कुछ देर के लिए दवाव पड़ने पर वो अंग सुन्न हो जाता है। वहां की नसों में दवाव पड़ने के कारण रक्त प्रवाह नहीं हो पाता इस कारण ऐसा होता है। दवाव हटा लेने पर कुछ देर बाद ठीक हो जाता है। पर जोर से दवाव पड़ने पर ही ऐसा होता है। ये तो स्वाभाविक है।लेकिन हल्के दवाव पड़ने पर अंग सुन्न होने लगे ये स्वाभाविक नहीं है।

ये शरीर की कमजोरी की तरफ़ इशारा करता है। अगर व्यक्ति रात को सोता है सुबह जब नींद खुलती हैं तो शरीर का एक तरफ सुन्न पड़ जाता है,या एक हाथ सुन्न पड़ जाता है, लगता है जैसे सुइयां चुभ रही है। ऐसा नसों की कमजोरी को दर्शाता है। आज हम आपको नसों के सुन्न पड़ने का कारण बताने की कोशिश करेंगे।

हाथ पैर सुन्न पड़ने के कारण-

हमारे शरीर में विटामिन बी 12 नाम का एक विटामिन पाया जाता है ये हमारे शरीर के लिए बहुत ही जरूरी है। विटामिन बी 12 शरीर की नसों को मजबूती प्रदान करता है। हमारे सारे शरीर में नसों का जाल जैसा बना है। शरीर के हर नस के ऊपर एक कवज मौजूद होता है। ये बाहरी आघातों से नसों को बचाने के लिए होता है। इस कवच को माइलिंग कहते हैं। विटामिन बी 12 इस कवज को मजबूत करने का काम करता है।

शरीर में अगर विटामिन बी 12 की कमी हो तो ये कवज कमजोर पड़ने लगता है। तब नसें बाहरी दवाव के कारण दबने लगती है। अतः बार बार शरीर के अंग सुन्न होने लगते हैं ‌। सुन्न होना रोकने के लिए शरीर में विटामिन बी 12 की मात्रा बढ़ाने की आवश्यकता है।

विटामिन बी 12 की शरीर में जितनी जरूरत होती है शरीर उतना ही लेता है। शरीर में विटामिन बी 12 ज्यादा होने पर मूत्र के माध्यम से शरीर से बाहर निकल जाता है।

विटामिन बी 12 के स्रोत-

  1. रोज सुबह एक गिलास गुनगुने पानी में दो चम्मच सिरका मिलाकर पीने से विटामिन बी 12 की कमी दूर होती है। नसों का सुन्न होने ठीक हो जाता है।

2) मांस, मछली, अंडा,दूध,पनीर में प्रचुर मात्रा में विटामिन बी 12 होता है।इनका नियमित सेवन करने से शरीर में विटामिन बी 12 की कमी दूर होती है।

3) नियमित व्यायाम करने से शरीर का रक्त संचार तंत्र ठीक रहता है। और नसों का सुन्न होना बन्द हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *