जानिए आंतों को साफ करने का तरीका

आपका स्वस्थ पेट आपके स्वस्थ शरीर की बुनियाद है। दुर्भाग्य से कुछ लोग भोजन के प्रति बहुत संवेदनशील होते हैं और खानपान में बदलाव की वजह से उन्हें पाचन तंत्र के रोग हो जाते हैं। यह जानना आपके लिए दिलचस्प होगा कि प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाने वाली 70 फीसदी कोशिकाएं आंत की परत पर होती है। इसके बावजूद खराब आहार, तनाव, पर्यावरणीय और भोजन में मौजूद विषाक्त पदार्थ पाचन प्रणाली को खराब कर सकते हैं। इसलिए अपनी आंतों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है ताकि पाचन प्रणाली पर अतिरिक्त दबाव न आए। ऐसा करने के लिए अपनी डाइट में कुछ ऐसे आहार शामिल करें जो आंत के जरिये विषाक्त पदार्थ को आपके शरीर से बाहर निकाल सके।

आंतों को साफ करने का तरीका –
आंतों को साफ करने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें –
हरी सब्जियां फाइबर से भरपूर होती हैं। ये आंत को साफ करने के लिए बेहतरीन विकल्प हैं। हरि सब्जियां खनिज और एंटीऑक्सीडेंट से भरी होती हैं जो शरीर को विषाक्त पदार्थ के संपर्क में आने से बचाती हैं। इस बात का ध्यान रखें कि अगर आपकी पाचन क्रिया अक्सर खराब रहती है तो कच्ची सब्जियां खाने से बचें। इसके बजाय हमेशा सब्जी पकाकर खाएं। पकी सब्जियां आसानी से पच जाती हैं। आप हरी सब्जियों का सूप पी सकते हैं, भूनकर खा सकते हैं या फिर उबालकर खा सकते हैं। उबली हरी सब्जियां भी सेहत के लिए फायदेमंद है। अपनी डाइट में हरी सब्जियों के साथ आप वसा जैसे मक्खन, ऑलिव ऑयल और एवोकाडो शामिल करें। इसके साथ हरी सब्जियों में विटामिन के उचित अवशोषण के लिए अम्लयुक्त आहार जैसे नींबू का रस या विनेगर भी शामिल करें।

आंतों को साफ करने के लिए दलिया जरूर खाएं –
दलिया स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभकारी है। इसे अपने आहार में जरूर शामिल करें। अगर सामान्य दलिया खाना पसंद न हो तो इसकी रेसिपी के साथ अलग-अलग तरह के प्रयोग कर सकते हैं। आप इससे मीठी, नमकीन और तरह-तरह की डिशेज तैयार कर सकते हैं। हालांकि कुछ लोगों को दलिया बनाने में ज्यादा समय लगता है, लेकिन इस वजह से इसकी अनदेखी नहीं की जा सकती। दलिया फाइबर से भरपूर है। यह सबके लिए उपयोगी है।

आंत साफ करने का तरीका है दही –
दही एक प्रोबायोटिक (फर्मेंटेड खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले जीवित सूक्ष्मजीव) खाद्य पदार्थ है। इंटरनेशनल जरनल ऑफ़ कैंसर में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक बहुत सारी मात्रा में दही खाने से कोलोरेक्टल कैंसर होने की आशंका में 38 फीसदी तक कमी आती है। इसके साथ ही प्रोबायोटिक्स होने की वजह से इसमें स्वस्थ बैक्टीरिया मौजूद होते हैं जो बीन्स या सब्जी खाने की वजह से होने वाली गैस की समस्या को कम करता है। अगर आप दुग्ध पदार्थ पसंद करते हैं तो अपनी डाइट में दही जरूर शामिल करें।

आंत की सफाई में अखरोट है लाभकारी –
अखरोट के प्रत्येक तीस ग्राम में कुछ ग्राम फाइबर मिलता है। लेकिन इसमें एल्फा-लिनोलेनिक एसिड के फाॅर्म में ओमेगा 3 फैटी एसिड होता है। इस वजह से यह आंत की सफाई के लिए उपयोगी आहार में शामिल है। कुछ शोध से पता चलता है कि अखरोट खाने से आंत मजबूत होती है और ऐसा ट्यूमर जिसके कैंसर बनने की आशंका हो, उसके जोखिम में भी कमी आती है।

आंत साफ कैसे करे –

आंतों को साफ करने का उपाय है ब्रोकली –
ब्रोकली को आप अपनी डाइट में किसी भी रूप में शामिल कर सकते हैं। आप चाहें तो इसे फ्राई करके खा सकते हैं या फिर चिकन के साथ इसको भूनकर खा सकते हैं। आप ब्रोकली और फूलगोभी को मिक्स करके सब्जी बनाकर भी इसका मजा ले सकते हैं। ब्रोकली आंत को साफ करके आपको स्वस्थ रखती है।

आंत को साफ करने के लिए पिएं दूध –
आमतौर पर लोग दूध को नाश्ते के तौर पर पीते हैं। लेकिन आप चाहें तो इसे किसी भी समय पी सकते हैं। इससे आपको दूध और डेयरी प्रोडक्ट के सभी गुण हासिल होंगे। आप चाहें तो दूध से तरह-तरह के मिल्क शेक बनाकर भी इसका मजा ले सकते हैं। यकीन मानिए नियमित दूध को अपनी डाइट में शामिल करने से आपकी आंत की सफाई होगी और इससे संबंधित समस्याएं भी कम होंगी। व्होल मिल्क (3.25 फैट) में 146 कैलोरी, 8 ग्राम फैट, 13 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और 8 ग्राम प्रोटीन होता है। जबकि नाॅन फैट या स्किम मिल्क में 86 कैलोरी, 0 ग्राम फैट, 12 ग्राम कार्बोहाइड्रेट और 8 ग्राम प्रोटीन होता है।

आंतों की सफाई के लिए बीन्स और दाल खूब खाएं –
बीन्स और दालें भी फाइबर से भरपूर होती हैं। नियमित फाइबर युक्त आहार का सेवन करने वालों को फाइबर युक्त आहार न खाने वालों की तुलना में कोलोन पाॅलिप (आंतों की ऊपरी परत पर बनने वाला कोशिकाओं का एक छोटा गुच्छा होता है) होने की आशंका 35 फीसदी तक कम होती है। शोधकर्ताओं का कहना है कि बीन्स और दाल में कैंसर रोधी फाइटोकेमिकल्स होते हैं। अतः बीन्स और दाल नियमित खाएं और अपने आंतों को साफ रखें।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *