जानिए कुलथी की दाल खाने के फायदे

कुलथी दाल एक सुपरफूड के रूप में जानी जाती है और इसका सेवन अधिकतर भारत के दक्षिणी भाग में मुख्य आहार के रूप में किया जाता है। कुलथी दाल पोषक तत्वों में भरपूर होती है और इसमें बहुत सारे खनिज पदार्थ जैसे फॉस्फोरस, कैल्शियम, प्रोटीन और आयरन पाए जाते हैं। इसलिए यह मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी मानी जाती है।

कुलथी दाल के फायदे दिलाएं जुकाम से राहत –
जुकाम और बुखार होने का मुख्य कारण है, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली पर विभिन्न प्रकार के वायरस का हमला होना। इसके लिए, आयुर्वेद के अनुसार प्राचीन विद्वानों ने बुखार, खांसी, सर्दी जुकाम, ब्रोन्काइटिस और अस्थमा जैसी समस्या होने पर कुलथी दाल का सेवन करने की सलाह दी है।

बंद छाती और बंद नाक का इलाज करने के लिए आपको कुलथी दाल के सूप का सेवन करना चाहिए। साथ ही यह सूप श्लेष्म झिल्ली को नरम करने और श्लेष्म पिघलाने में मदद करता है जिससे नाक को खोलने में मदद मिलती है। इसके सेवन से सांस लेने में मदद मिलती है, क्योंकि इसमें मौजूद आवश्यक पोषक तत्व शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाते हैं और प्रतिरक्षा को मजबूत करते हैं।

कुलथी दाल के लाभ बनाएं पाचन को बेहतर –
अगर आपको अपनी पसंद के भोजन के बाद एसिडिटी महसूस हो रही है या आपको अच्छा महसूस नहीं हो रहा है तो हो सकता है कि आप अपच की समस्या से पीड़ित हो तो आपको कुलथी दाल का सहारा लेना चाहिए। अपच के कारण जीईआरडी और एसिड रिफ्लक्स जैसी समस्याएं हो सकती है।

इसलिए सुबह खाली पेट कुलथी दाल खाने की सलाह दी जाती है। यह पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने और बेहतर रखने में मदद करती है। इसके अलावा यह पेट फूलने और अपच को कम करती है। साथ ही यह आंतों के कीड़ों को खत्म करने में भी मदद करती है।

कुलथी की दाल का प्रयोग करें वजन कम करने में –
आयुर्वेद के अनुसार यदि हम हर दिन कुलथी की दाल का सेवन करें, तो ये वजन कम करने में लाभकारी साबित हो सकती है। वजन को कम करने या नियंत्रित रखने के लिए, कुलथी दाल के पाउडर में जीरा पाउडर को मिक्स करें। अब इस मिश्रण में एक गिलास पानी मिलाएं और दिन में दो बार खाली पेट इसका सेवन करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.