जानिए हेयर ट्रांसप्लांट के नुकसान

हेयर ट्रांसप्लांट एक शल्य चिकित्सा यानि सर्जिकल तकनीक है जिसमें आपके सिर या शरीर के एक हिस्से से बाल लेकर सिर के बिना बाल वाले भाग पर ट्रांसप्लांट किये जाते हैं।

हेयर ट्रांसप्लांट क्या है –
हेयर ट्रांसप्लांट एक सर्जिकल प्रक्रिया है जिसमे त्वचा का विशेषज्ञ सर्जन यानी “डर्मटोलॉजिकल सर्जन” बालों को सिर के गंजे भाग पर ट्रांसप्लांट करते है। सामान्यतः सर्जन आपके सिर के पीछे के भाग से बाल लेकर उनको सामने या सिर के बीच वाले गंजे भाग में ट्रांसप्लांट करते हैं। सर्जन बालों का प्रत्यारोपण आमतौर पर लोकल एनेस्थेसिया के तहत अपने क्लिनिक में ही करते हैं।

विशेषज्ञों के अनुसार, अधिंकाश गंजेपन के मामलों का कारण अनुवांशिक होता है। बाकि बचे मामलों के अलग-अलग कारण हो सकते हैं जैसे कि आपका भोजन, तनाव, बीमारी, या आपके द्वारा ली जाने वाली दवाएँ।

हेयर ट्रांसप्लांट के दौरान क्या होता है?

हेयर ट्रांसप्लांट के लिए सबसे पहले आपके सिर की त्वचा को अच्छे से साफ किया जाता हैं, इसके बाद आपके सिर के उस भाग को लोकल एनेस्थेसिया देकर सुन्न कर दिया जाता हैं। अब दोनों में से किसी एक तकनीक के द्वारा बालों वाली जगह से एक हिस्सा निकला जाता हैं और वह पर टांके लगा दिए जाते हैं।

सर्जन अलग निकाले हुए भाग को मैग्नीफाइंग लेंस की मदद लेकर सर्जिकल नाइफ से छोटे-छोटे हिस्से करते हैं। जब इम्प्लांट कर दिया जाता हैं तो ये हिस्से नए बालों को प्राकृतिक रूप प्रदान करते हैं।

आपके सिर के जिस भाग में हेयर ट्रांसप्लांट किया जाना हैं वहाँ आपके सर्जन सुई से छोटे-छोटे छेद कर देते हैं। और फिर इन छेद में अलग किये हुए हिस्से वाले बालों को रखते हैं। एक उपचार सत्र में आपके सर्जन सैंकड़ो-हजारों बाल ट्रांसप्लांट कर सकते हैं।

आपके सिर के टांके सर्जरी के लगभग 10 दिन बाद हटा दिए जाते हैं। आपको अपनी इच्छा अनुसार बाल पाने के लिए 3 से 4 सत्र की जरुरत हो सकती हैं। हर सत्र में कुछ महीनों का अंतर रखा जाता है ताकि पुराना इम्प्लांट पूरी तरह ठीक हो जाएं।

हेयर ट्रांसप्लांट के नुकसान –
हेयर ट्रांसप्लांट के कारण होने वाले साइड इफेक्ट आमतौर पर बहुत मामूली होते हैं और कुछ हफ्तों के भीतर ख़त्म हो जाते हैं। इसमें निम्न प्रभाव शामिल हैं –

खून बहना
संक्रमण
सिर की त्वचा में सूजन
आंखों के चारों ओर नील पड़ जाना
सिर के जिस भाग से बाल हटा दिए जाते हैं उस भाग पर या जहाँ पर इम्प्लांट किये जाते हैं उस भाग पर एक परत का बन जाना
सिर की त्वचा में इलाज किये गए भाग में संवेदना की कमी
खुजली
बालों के “फॉलिकल्स” में सूजन या संक्रमण
अस्थायी रूप से बालों का अचानक झड़ जाना। चिकित्सीय भाषा में इसे “शॉक लॉस” (shock loss) कहा जाता है
बालों के अजीब से दिखने वाले गुच्छे

Leave a Reply

Your email address will not be published.