कोकोनट वॉटर से वेट लॉस होने के मुख्य कारण

कोकोनट वॉटर का टेस्ट भी अमेजिंग होता है। कोकोनट वॉटर को एनर्जी ड्रिंक के रूप में भी लिया जाता है। इस आर्टिकल के माध्यम से जानिए कि आखिर क्यों कोकोनट वॉटर से वेट लॉस होता है।

कोकोनट वॉटर से वेट लॉस का संबंध जानने से पहले ये जानना जरूरी है कि कोकोनट वॉटर में क्या पाया जाता है। कोकोनट वॉटर में लो कैलोरी पाई जाती है। कोकोनट वॉटर में नैचुरल एंजाइम के साथ ही मिनरल जैसे पोटेशियम भी पाया जाता है, जोकि इसे नैचुरल ड्रिंक बनाता है। सही टाइम में फ्रेश कोकोनट वॉटर से वेट लॉस की संभावना बढ़ जाती है।

कोकोनट वॉटर से वेट लॉस करने में इसलिए आसानी होती है क्योंकि कार्बोहाइड्रेड का कम कन्संट्रेशन पाया जाता है। कोकोनट वॉटर से वेट लॉस का सबसे आसान लॉजिक ये भी माना जाता है कि इसे पीने से कुछ समय तक भूख नहीं लगती है। ऐसा महसूस होता है कि खाना खाया है। अगर आपको कोकोनट वॉटर से किसी प्रकार कि समस्या नहीं है तो दिन में तीन से चार बार भी कोकोनट वॉटर पिया जा सकता है।

एक कप कोकोनट वॉटर में 2 ग्राम प्रोटीन होती है। प्रोटीन की मात्रा लेने पर भूख का एहसास कम होता है। साथ ही जिन लोगों को वेट लॉस करना है, उनके लिए हाई प्रोटीन लेना बेहतर विकल्प होता है। इस तथ्य के साथ ही कोकोनट वॉटर से वेट लॉस का रास्ता और भी आसान हो जाता है।

एक कप कोकोनट वॉटर में रोज की जरूरत के हिसाब से 10 परसेंट विटामिन-सी उपस्थित होता है। स्टडी में ये बात सामने आई है कि विटामिन-सी शरीर में हॉर्मोन प्रोड्यूस करता है जिसे कार्निटाइन कहते हैं। इस हार्मोन के कारण जल्द की एनर्जी सेल्स तक पहुंचती है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *