ब्लैकहेड्स को हटाने में मददगार नीम के पत्ते

नीम एक असरदार जड़ी-बूटी है, जिसमें कई जैव सक्रिय यौगिक होते हैं। इनमें निंबिन, निंबिनिन, निंबोलिड, निमाडियल, निनेंन, गेडुनिन, निंबिडोल इत्यादि शामिल हैं। विभिन्न अध्ययनों से यह पता चला है कि नीम के अर्क में एंटीएलर्जेनिक (एलर्जी की प्रतिक्रिया को रोकने वाली चीजें), एंटी-एजिंग (उम्र बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करना व रोकना), एंटीफीडेंट (कीटों और जानवरों से पौधों को बचाने वाला कार्बनिक यौगिक), एंटिफंगल (यीस्ट व अन्य फंगल जीवों के विकास को सीमित या रोकने वाली दवा), एंटी-इंफ्लेमेटरी (सूजन या जलन को कम करने वाली दवाई), एंटीपायरेहॉइक (मवाद को ठीक करने वाली दवाई), मूत्रवर्धक और अन्य जैविक गुण होते हैं।

त्वचा की सूजन को करता है दूर –
कई अध्ययनों से यह पता चला है कि नीम के पेड़ में निंबिन नामक एक घटक होता है, जो एंटी-इंफ्लेमेटरी के रूप में कार्य करता है। यह त्वचा की सूजन-संबंधी स्थि​तियों जैसे डर्मेटाइटिस (त्वचा में लालिमा और खुजली वाली स्थिति), पॉइजन आइवी (पौधा, जिसमें मौजूद पदार्थ से डर्मेटाइटिस हो सकता है) और ड्रग रैशेज (किसी दवा से होने वाला रिएक्शन) का इलाज करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा नीम की पत्ती के अर्क से ल्यूकेमिया (ब्लड कैंसर का एक रूप) से पीड़ित लोगों में शरीर की सूजन को कम किया जा सकता है।

उम्र बढ़ने के संकेत को धीमा करने में सक्षम –
नीम में ओलिक एसिड मौजूद होता है, जो त्वचा की उम्र संबंधी संकेतों जैसे महीन रेखाओं का बनना, त्वचा का रंग बदलना और झुर्रियों को रोकने में मदद करता है। ओलिक एसिड त्वचा की सतह में प्रवेश करता है और नमी की कमी को दूर करने में मदद करता है। इसके अलावा यह त्वचा की सतह से नमी के वाष्पीकरण को भी रोकता है, जिससे नमी की कमी नहीं होने पाती है।

ब्लैकहेड्स को हटाने में मददगार –
नीम के पत्तों में स्टीयरिक एसिड होता है, जो त्वचा से अतिरिक्त तेल और गंदगी को हटाने में मदद करता है। यह त्वचा के सभी छिद्रों को भी साफ करने में मदद कर सकता है। इस प्रकार सभी ब्लैकहेड्स साफ हो सकते हैं। ओलिक एसिड छिद्रों को बंद किए बिना त्वचा के प्राकृतिक तेल को पुनर्स्थापित करता है। यह त्वचा पर एक सुरक्षात्मक परत बनाने में सहायक है, जिसकी वजह से त्वचा के छिद्रों में गंदगी नहीं जा पाती है। यह त्वचा में नमी की कमी नहीं होने देता है, जिस कारण त्वचा कोमल और नरम बनी रहती है।

मुंहासों से छुटकारा –
नीम का तेल मुंहासे से होने वाली लालिमा और सूजन को कम करने में मदद कर सकता है, क्योंकि इसमें एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं। नीम के पत्तों में ओलिक एसिड होता है, जो त्वचा के प्राकृतिक तेल को बनाए रखता है। नीम के कैप्सूल हार्मोनल असंतुलन को नियंत्रित करने में भी मदद करते हैं, जो मुंहासों के कारणों में से एक है।

निशान कम करने में सहायक –
नीम में फैटी एसिड होते हैं, जो त्वचा की चिकनाई को बनाए रखते हैं और स्किन को स्वस्थ रखते हैं। इस प्रकार, यह त्वचा पर मौजूद निशानों को कम करने में मदद करते हैं। नीम का पेस्ट दर्द, जलन और घावों के इलाज में मदद कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.