सऊदी अरब ने केवल 1 हजार मुसलमानों को इस वर्ष हज करने की दी अनुमति

सऊदी अरब, जो हर साल हज के लिए लाखों मुसलमानों की मेजबानी करता है, ने केवल एक हजार लोगों को कोरोनोवायरस महामारी के कारण हज करने की अनुमति दी है। सऊदी अरब के आधुनिक इतिहास में यह पहली बार है जब इतनी कम संख्या में लोग हज के लिए मक्का पहुंचेंगे और इसमें दूसरे देशों से आने वाले मुसलमान शामिल नहीं होंगे। पांच दिवसीय हज यात्रा इस साल 31 जुलाई से शुरू होगी।

पिछले साल, दुनिया भर के 2.5 मिलियन मुस्लिम हज के लिए मक्का पहुंचे, लेकिन COVID-19 के फैलने के बढ़ते जोखिम के कारण, सऊदी अरब ने इस बार संख्या में भारी कमी की है। सऊदी अरब के स्वास्थ्य मंत्री तौफिग अलराबिया ने कहा है कि संख्या को कम करने के साथ, इस वर्ष केवल 65 वर्ष से कम आयु के लोगों को ही हज करने की अनुमति दी गई है। उन्होंने यह भी कहा कि पवित्र शहर मक्का पहुंचने वाले सभी लोगों को कोरोनोवायरस परीक्षण से गुजरना होगा और हज पूरा करने के बाद सभी को घर के संगरोध में जाना होगा।

खाड़ी देशों में, कोरोनावायरस ज्यादातर सऊदी अरब में फैला हुआ है। जॉन्स हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक, अब तक 1 लाख 61 हजार COVID-19 मरीज मिल चुके हैं, जबकि 1300 लोगों की मौत हो चुकी है। इस संकट के कारण, इस साल मार्च में आयोजित होने वाली उमराह यात्रा भी रद्द कर दी गई जिसमें लाखों मुस्लिम इकट्ठा हुए।

सऊदी अरब के लिए, यह निर्णय एक दोहरी मार है क्योंकि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के कारण इसकी अर्थव्यवस्था संकट में है। हज यात्रा सऊदी सरकार की आय का दूसरा प्रमुख स्रोत है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, सऊदी अरब हर साल हज और उमराह यात्राओं से 12 बिलियन डॉलर कमाता था।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *