भारत का ऐसा अजीब गांव जहाँ ‘छूना है मना’,ऐसा क्यों जानिए

दुनिया न जाने कितने अचरजों से भरी पडी है। हमारा देश भारत भी अपने आपमें कई आश्चर्य जनक रहस्य समेटे हुए है जिनसे आप और हम अपरिचित हैं। हमारे देश में विभिन्न समुदायों व जातियों के लोग रहते हैं, जिस कारण देश में वेशभूषा, रंगरूप व भाषा बोली में भी भिन्नता पाई जाती है। समूचे विश्व के विकास के साथ हमारे देश में मौजूद सभी वर्ग के लोगों में भी परिवर्तन देखने को मिला है। लेकिन इन सभी लोगों में सदियों से चली आ रही परंपरा व संस्कृति आज भी कायम है। दुनिया के सात महान आश्चर्यों को तो शायद ही कोई होगा जो नहीं जानता हो। लेकिन आज हम आप लोगों के लिए कुछ ऐसा लेकर आए जिससे शायद ही आप परिचित होगे।

हिमाचल प्रदेश में मौजूद एक गांव ‘मलाना’ की, जहाँ आप वहाँ किसी को भी नहीं छू सकते। हिमालय की मनोरम घाटियों में यह प्राचीन भारतीय गांव कुल्लू घाटी के उत्तर पूर्व में स्थित है। इस गांव के लोग मानते हैं कि वे किंग एलेक्जेंडर के वास्तविक वंशज हैं।

मलाना गांव के बारे में एक और आश्चर्यजनक तथ्य है, वह है, इस गांव को विश्व का सबसे पुराना लोकतंत्र भी माना जाता है। यह गांव द्विसद्नात्मक संसद द्वारा चलाया जाता है, जिसके निचले सदन को ‘कनिष्ठांग’ व उच्च सदन को ‘ज्येष्ठांग’ कहा जाता है। इस गांव की भाषा ‘कनाशी’ है जो केवल यहीं बोली जाती है। इस गांव में उनकी भाषा बाहरी लोगों द्वारा बोलना भी निषेध समझा जाता है। बाहरी लोगों का यहाँ के देवालयों में जाना भी निषेध है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *