अपने हाथ की ऊंगली से भविष्य पता करने का सही तरीका, आप भी एक बार जरूर जाने

हस्तरेखा का विज्ञान सालों पुराना है, जिसका उगम भारत में ही हुआ था। आज उसी के आधार पर पूरी दुनिया में रिसर्च हो रहे हैं। आज हम आपको सालों पुराने तकनीक के आधार पर मनुष्य की उंगलियों के आधार पर उसके महत्व एवं व्यक्तिमत्व के बारे में जानकारी देने वाले हैं।

1. पहले प्रकार की उंगली का आकार सीधा होता है, एक सरल सीधी रेखा के समान वह उंगली होती है, ऐसे उंगली जिन लोगों की भी होती है वह अपने भावनाओं को दबाने या छुपाने में माहिर होते हैं। ऐसे व्यक्ति अपने भावनाओं को लोगों के सामने रखना या उन्हें बताना सही नहीं समझते।

ऐसे लोग बड़े सांप मन के होते हैं इन्हें झूठ बोलना बिल्कुल पसंद नहीं होता, और ऐसे लोग झूठ बोलने वालों से दूरी बनाकर ही रखना ठीक समझते हैं। ऐसे लोग खुद अपने बल पर सफलता प्राप्त करने की इच्छा होती है। ऐसे लोगों के अंदर क्रिएटिविटी होती है और यह अपने समय को अनुकूल इस्तेमाल करना जानते हैं।

2. दूसरी प्रकार के उंगली है जो कि शंकु (थोड़ी सी दाहिने या बाएं और छुपी हुई) की तरह होती है। ऐसे उंगली का आकार जिन लोगों का भी होता है वह भी तरसे पूरे कॉन्फिडेंट होते हैं। ऐसे लोगों को अनजान लोगों से पहचान बढ़ाने में दिक्कतें होती हैं, इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि ऐसे लोगों को अनजान लोगों पर जल्दी भरोसा नहीं होता है.

जिसके कारण यह बड़ी ही सावधानी से उनके साथ बर्ताव करते हैं। ऐसे लोग यदि कोई भी काम को ठान ले तो उन्हें पूर्ण करने के बाद ही दम लेते हैं और ऐसे लोग किसी भी चीज को लेकर प्रतिबद्ध (कमिटेड) होते हैं।

3. तीसरे प्रकार की उंगली वाले लोग वह होते हैं जिनकी उंगली एक समान यानी पूरी सीधी नहीं होती है। ऐसे लोगों को एंजल कहा जाता है। ऐसे लोग किसी की भी मदद करने से पीछे नहीं हटते। इनको दिखावे का शौख़ होता है।

भले इनके पास पैसा ना हो लेकिन यह लोग पैसा होने का दिखावा भी करते हैं ताकि इन्हें लोग कमजोर और गरीब ना समझे। ऐसे लोग हमेशा दूसरों की तारीफ करने में जुटे हुए होते हैं। ज्यादा समय दर्शील होने के कारण और ज्यादा गुस्सा आने के कारण ऐसे लोग कभी-कभी गलत कदम भी उठा लेते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *