कल से आने वाले है ये खास नियम

अगले महीने यानि अगस्त में बहुत सारे बदलाव होने वाले हैं। ये परिवर्तन आपको आर्थिक रूप से प्रभावित कर सकते हैं, इसलिए आपको पहले से ही इनसे अवगत होने की आवश्यकता है। ये परिवर्तन निश्चित समय अवधि और कुछ नियमों के अधीन हैं। एलपीजी सिलेंडर की कीमत 1 अगस्त से बदल जाएगी।पिछले दो महीनों से एलपीजी सिलेंडर की कीमत लगातार बढ़ रही है। अगस्त में, उपभोक्ताओं को एलपीजी सिलेंडर के लिए अधिक या कम भुगतान करना होगा। यह केवल 1 अगस्त को ही जाना जाएगा, क्योंकि भारतीय तेल विपणन कंपनियां हर महीने के पहले दिन एलपीजी सिलेंडर की कीमत में बदलाव करती हैं।

लॉकडाउन के मद्देनजर डाक विभाग ने सुकन्या समृद्धि योजना के ग्राहकों को सुविधा प्रदान की है। डाक विभाग ने 25 जून, 2020 और 31 जुलाई, 2020 के बीच सुकन्या समृद्धि योजना खाता खोलने के लिए लॉकडाउन अवधि के दौरान दस वर्ष की आयु पूरी करने वाली लड़की को छूट दी। केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड 2019-20 वित्तीय वर्ष के लिए कर-बचत निवेश करने की अंतिम तिथि 31 जुलाई है विस्तारित। यदि आपने अभी तक अपनी आयकर कटौती प्राप्त करने के लिए कर बचत निवेश योजनाओं में निवेश नहीं किया है, तो आपके पास 31 जुलाई तक का समय है। पहली अगस्त से देश में कई बड़े बदलाव हो रहे हैं। इसका सीधा असर आपकी जेब पर पड़ता है। इन परिवर्तनों में बैंकिंग और कार खरीद नियम शामिल हैं। आज हम आपको इन बदलावों के बारे में बता रहे हैं ताकि आप खुद को समायोजित कर सकें।

1 अगस्त से कार और टू-व्हीलर इंश्योरेंस के नियम बदल जाएंगे। इंश्योरेंस डेवलपमेंट एंड रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया के निर्देशों के अनुसार 1 अगस्त से 3 साल तक कार खरीदने और दोपहिया 5 के लिए इसकी आवश्यकता नहीं है।सालों तक थर्ड पार्टी कवर लेना। बीमा नियामक विकास प्राधिकरण ने जून में अपने दीर्घकालिक पैकेज थर्ड पार्टी और ऑन-डैमेज इंश्योरेंस पॉलिसी को वापस ले लिया। इरडा ने कहा कि इनसे गाड़ियों की लागत बढ़ेगी और वाहन ले जाना मुश्किल हो जाएगा।

अधिकांश बैंकों ने घोषणा की है कि वे 1 अगस्त से खाते में कोई न्यूनतम शेष राशि नहीं लेंगे। साथ ही, ये बैंक तीन मुफ्त लेनदेन के बाद भी शुल्क लेते हैं। बैंक ऑफ महाराष्ट्र, एक्सिस बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक और आरबीएल बैंक इसके लिए शुल्क लेना शुरू करेंगे।बैंक ऑफ महाराष्ट्र के बचत ग्राहकों को मेट्रो और शहरी क्षेत्रों में अपने खातों में कम से कम 2,000 रुपये रखने होंगे, जो पहले 1,500 रुपये थे। आरबीएल ने हाल ही में बचत खातों पर ब्याज दरों में कटौती की है। अब बचत खाते में 1 लाख रुपये तक जमा करने पर प्रति वर्ष 4.75% ब्याज मिलता है। वहीं, 1-10 लाख रुपये तक की जमा पर 6 प्रतिशत, रु।6.75 प्रतिशत ब्याज का भुगतान 10 लाख रुपये से 5 करोड़ रुपये तक की जमा राशि पर किया जाता है। वहीं, ग्राहक अब महीने में 5 बार एटीएम से मुफ्त में कैश निकाल सकते हैं। नए नियम 1 अगस्त से प्रभावी होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.