यह है 5 भारत के सबसे महंगे बोर्डिंग स्कूल, फीस है लाखों में

शिक्षा हम सभी का जन्मसिद्ध अधिकार है। चाहे वो गरीब हो या अमीर, हमारे देश का संविधान उसे मुफ्त में बेसिक शिक्षा प्राप्त करने का अधिकार देता है लेकिन ये अधिकार सिर्फ सरकारी स्कूलों तक ही सीमित है। लेकिन जब बात प्राइवेट स्कूलों की आती है तो बेसिक शिक्षा के लिए ये स्कूल बहुत ज्यादा फीस लेते हैं। हमारे आस-पास ऐसे बहुत सारे प्राइवेट स्कूल हैं जिनकी मासिक फीस 2000 से 10,000 रूपए के बीच में है लेकिन आज हम आपको भारत के कुछ ऐसे स्कूलों के बारे में बताएंगे जिनकी एक साल की फीस के बारे में जानकर आपके होश उड़ जाएंगे।

9) बिशॉप कॉटन स्कूल, शिमला

सबसे महंगे स्कूलों की इस लिस्ट में नवें नम्बर पर है शिमला का बिशॉप कॉटन स्कूल। इस स्कूल की स्थापना सन 1859 में बिशप जॉर्ज एडवर्ड लिंच कॉटन ने की थी। 56 एकड़ में फैले इस स्कूल की एडमिशन और ट्यूशन फीस मिलाकर सालाना 6,93,000 रूपए जमा करने होते हैं। यहाँ से पढ़े हुए छात्रों की लिस्ट में रतन टाटा, मशहूर लेख़क रस्किन बांड, एक्टर कुमार गौरव, गोल्फ़र जीव मिल्खा सिंह और ललित इत्यदि शामिल हैं।

8) स्टोनहिल इंटरनेशनल स्कूल, बंगलुरू

स्टोनहिल इंटरनेशनल स्कूल को स्टोनहिल एजुकेशन फाउंडेशन द्वारा एम्बेसी ग्रुप के अंतर्गत बैंगलोर में स्थापित किया गया था। इस स्कूल को काउन्सिल ऑफ़ इंटरनेशनल स्कूल्स और न्यू इंगलैंड एसोसिएशन ऑफ़ स्कूल्स एंड कॉलेज से मान्यता प्राप्त है। साथ ही यह स्कूल, द एसोसिएशन ऑफ़ इंटरनेशनल स्कूल्स इन इंडिया, द ईस्ट एशिया रीजनल काउन्सिल ऑफ़ स्कूल्स तथा ऑस्ट्रलियन बोर्डिंग स्कूल्स एसोसिएशन का एक सदस्य है। बंगलुरू के टॉप स्कूलों में से एक यहाँ पर छात्रों को एडमिशन के लिए कम से कम 6 लाख रूपए ट्यूशन फ़ीस और लगभग 300000 रूपए लाख एडमिशन फ़ीस यानि कुल मिला कर 9 लाख रुपए सालाना फीस जमा करनी होती है।

7) वेल्हम बॉयज स्कूल (Welham Boys’ School), देहरादून

1937 में देहरादून में स्थापित वेल्हम बॉयज स्कूल सीबीएसई बोर्ड से मान्यता प्राप्त है। इस स्कूल से पढ़े हुए छात्रों में राजीव गाँधी, संजय गाँधी, मणि शंकर अय्यर जैसे मंत्री, क्रिकेटर मंसूर अली खान पटौदी और ज़ायेद खान, जुबीन नौटियाल जैसी फ़िल्मी हस्तियां शामिल हैं। यहाँ पर एडमिशन के लिए छात्रों को एंट्रेंस टेस्ट देना होता है और साथ ही एक साल तक सभी नए छात्रों को ‘प्रोबेशन पीरियड’ पर रखा जाता है जिसमे जो छात्र अच्छा परफॉर्म नहीं करते उनका एडमिशन रद्द कर दिया जाता है। वेल्हम बॉयज स्कूल की सालाना फ़ीस लगभग 7 लाख रूपए है और एडमिशन के समय 1 लाख से 2 लाख फ़ीस सिक्यूरिटी एवं बाकी खर्च जमा करना होता है।

6) सिंधिया स्कूल, गवालियर

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में मौजूद सिंधिया स्कूल 110 एकड़ में फैला हुआ बॉयज ऑनली स्कूल है। यहाँ से पढ़े हुए छात्रों की लिस्ट में एक्टर सलमान खान, अरबाज़ खान, डायरेक्टर्स अनुराग कश्यप, सूरज बड़जात्‍या जैसे मशहूर नाम हैं। इस स्कूल में एडमिशन लेना आसान नहीं है। यहाँ एडमिशन के लिए छात्रों को सिंधिया स्कूल एपिट्यूड एनालिसिस टेस्ट देना होता है। जिसमे गणित, अंग्रेजी, हिंदी तथा सामान्य ज्ञान जैसे विषयों पर प्रश्न पूछे जाते हैं।

यह टेस्ट हर वर्ष जनवरी से फरवरी के बीच होता है। सिंधिया स्कूल में एडमिशन के लिए 3,50,000 रूपए एडमिशन फ़ीस और ट्यूशन फीस लगभग 7 लाख रूपए सालाना जमा करनी होती है। इस तरह देखा जाए तो सिंधिया स्कूल की सालाना फीस लगभग साढे दस लाख रूपए है।

5) मेयो कॉलेज, अजमेर, राजस्थान

यह बॉयज ओनली बोर्डिंग स्कूल है। इसकी स्थापना 1875 में तत्कालीन वायसराय रिचर्ड बोर्के ने किया था। यह भारत के सबसे पुराने बोर्डिंग स्कूलो में से एक है। देश-विदेश की कई नामी हस्तियां जैसे जम्मू-कश्मीर के अंतिम शासक हरि सिंह, फिल्म डायरेक्टर टीनू आनंद, विवेक ओबराय, पूर्व नेवी चीफ एडमिरल सुनील लाम्बा और ओमान के सुल्तान सईद-बिन-तैमूर ने भी इस स्कूल से पढाई पूरी की है।

350 एकड़ में फैले इस स्कूल में औसतन प्रति 10 स्टूडेंट्स पर 1 टीचर है। इस स्कूल की एडमिशन फीस 5 लाख रूपए और ट्यूशन फीस साढे 6 लाख रूपए है यानि कुल मिलाकर सालाना साढे 11 लाख रूपए। जाहिर सी बात है कि देश की आधी से ज्यादा आबादी के लिये अपने बच्चों को यहाँ पढाना एक सपने जैसा है।

4) गुड शेफर्ड इंटरनेशनल स्कूल, ऊटी, तमिलनाडु

तमिलनाडु के ऊटी में 500 एकड़ में स्थापित गुड शेफर्ड इंटरनेशनल स्कूल सबसे महंगे स्कूलों की लिस्ट में 4वें स्थान पर है। इस स्कूल की स्थापना 1977 में डॉ पी सी थॉमस ने की थी। क्लासरूम और लेबोरेटरी के अलावा इस स्कूल में दो इनडोर स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, दो लेक्चर थिएटर, गोल्फ, वॉलीबॉल, बास्केटबॉल, टेनिस कोर्ट, दो स्वीमिंग पूल और मेडिकल सेंटर भी मौजूद है।

इन सारी सुविधाओं से लैस इस स्कूल में एडमिशन के लिए आपको 7 लाख रूपए देने पड़ते हैं जबकि क्लास 10 तक ट्यूशन फीस 6 लाख और 11वी और 12वी के लिए 8 लाख रूपए है यानि इस स्कूल में अपने बच्चों को पढाने के लिए आपको 13 से 15 लाख रूपए सालाना खर्च करने पड़ेंगे।

3) दून स्कूल (Doon School), देहरादून

दून स्कूल भारत के सबसे सर्वश्रेष्ठ रेजिडेंशियल स्कूलों में से एक माना जाता है। यहाँ तक कि कई बार बीबीसी, टाइम्स ऑफ़ इंडिया, द न्यूयॉर्क टाइम्स जैसे मीडिया पब्लिकेशन्स में ‘बेस्ट स्कूल्स ऑफ़ इंडिया’ की सूचि में टॉप रैंक में रहा है। दून स्कूल से राहुल गाँधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया, अभिनव बिन्द्रा, चन्द्रचूड़ सिंह जैसे मशहूर व्यक्तियों ने अपनी शिक्षा प्राप्त की है।

अपनी उच्च क्वालिटी की शिक्षा के लिए मशहूर दून स्कूल में भी एडमिशन के लिए छात्रों को एंट्रेंस टेस्ट और इंटरव्यू देना होता है। इस स्कूल की ट्यूशन फ़ीस 10,25,000

Leave a Reply

Your email address will not be published.