अंतिम रूप से डाटा ऑनलाइन कहाँ स्टोर होते हैं?

ऑनलाइन डाटा या क्लाउड स्टोरेज कितनी सुविधाजनक चीज़ है ना?
बस अपलोड का बटन दबाया और हम निश्चिंत हो जाते हैं की हमारा डाटा सुरक्षित रहेगा – खोने से।(प्राइवेसी की बात थोड़ी पेंचदार है).

गूगल फोटोज , ड्राइव से लेकर ड्रॉपबॉक्स और न जाने कितनी क्लाउड स्टोरेज सर्विसेज हैं।

पर जो भी है, सवाल है कि आखिर हमारा डाटा जाता कहाँ है?

ये समझने से पहले क्लाउड कंप्यूटिंग के बारे में थोड़ा समझ लेते हैं –

क्लाउड स्टोरेज का मतलब कंप्यूटरों का एक नेटवर्क है, जो कंपनियों द्वारा उपयोगकर्ताओं के डेटा को (सेवा के रूप में) संग्रहीत और स्थानांतरित करने के लिए उपयोग किया जाता है।
एक क्लाउड स्टोरेज सिस्टम में एक मास्टर कंट्रोल सर्वर शामिल होता है जो क्लाइंट कंप्यूटर (यानी आप) और आमतौर पर कई कंप्यूटर स्टोरेज सर्वरों के नेटवर्क से जुड़ा रहता है।

क्लाउड में स्टोर करना मतलब आपका कोई भी डाटा आपके हार्ड ड्राइव में स्टोर नहीं है. और आप इसे कहीं से भी एक्सेस कर सकते हैं.(इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए।)

मतलब जब आपने वो अपलोड वाला बटन दबाया तो आपका डाटा इंटरनेट के माध्यम से किसी डाटा सेंटर तक पंहुचा होगा।

पर डाटा सेंटर है क्या ?

डेटा सेंटर एक इमारत के भीतर समर्पित स्थान, या इमारतों का एक समूह है जो कंप्यूटर सिस्टम और संबंधित घटकों, जैसे दूरसंचार और भंडारण प्रणाली के लिए उपयोग किया जाता है

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *