इस प्रकार गणपति बप्पा की पूजा करने से होते हैं सारे दुख दूर परिवार में होती है खुशियों की बरसात

गणेश जी भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र हैं। उनका वाहन मूषक है। भगवान गणेश और पूरी दुनिया

और विभिन्न शक्तियों का एक समूह है। उसका नाम गणपति है क्योंकि वह गणों के स्वामी है। हाथी जैसा सिर होने के कारण उन्हें गजानन कहा जाता है। बुधवार के दिन गणेश की पूजा करना बहुत शुभ माना जाता है।

पौराणिक कथाओं में बताया गया है कि जब भगवान गणेश का जन्म देवी पार्वती के हाथों हुआ था, तो बुध देव भी कैलाश पर्वत पर मौजूद थे। इस वजह से, श्री गणेश जी की पूजा के लिए उनके प्रतिनिधि बुध थे, इसलिए हर बुधवार को भगवान गणेश की पूजा शुरू हुई।

गणेश की पूजा की जाती है, कई पूजाएं करने से भगवान गणेश बहुत खुश होते हैं सभी परेशानियों को समाप्त करते हैं।

गणेश की पूजा से दीर्घायु,सुख, समृद्धि और धन आता है

यदि आप अपने व्यवसाय को बढ़ाना चाहते हैं या अपने कारखाने या दुकान के काम को सबसे आगे ले जाना चाहते हैं, तो अपने कारखाने या दुकान की दहलीज पर गणेश जी की तस्वीर लगाएं, यह हमेशा सुख, समृद्धि और सफलता लाएगा।

अगर भगवान गणेश हमसे खुश हो जाते हैं, तो वह अपने भक्तों के सभी कष्टों को दूर कर देते हैं। वह सभी बाधाओं को दूर करता है और सफलता के मार्ग में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति बन जाता है।

घर के मुख्य द्वार पर गणेश जी की मूर्ति रखने से कोई भी नकारात्मक शक्ति घर में प्रवेश नहीं करती है अगर आपका कोई काम गलत हो जाता है, तो गणेश की पूजा करने से भी यह ठीक हो जाता है। और शत्रुओं पर काबू पाने के लिए भगवान गणेश की पूजा करना बहुत फायदेमंद होता है।

इस प्रकार करें गणेश जी की पूजा

गणेश की पूजा करने के लिए, सबसे पहले सुबह उठकर नहा धो लें। उसके बाद गणेश जी की मूर्ति को तांबे के बर्तन में रख दें।गणेश जी की मूर्ति को पात्र में रखने से पहले उस पात्र को साफ कर लें।पूजा स्थल पर, पूर्व की ओर मुंह करके पूजा करें।आसन पर बैठकर भगवान गणेश की पूजा फूल, धूप,

दीप, कपूर, चंदन से करें।धूपबत्ती चढ़ाना बहुत अच्छा माना जाता है, यह बहुत फायदेमंद है।पूजा के अंत में गणेश जी को मोदक चढ़ाएं।अंत में भगवान के मन का ध्यान करते हुए इस मंत्र का 108 बार जाप करें – ओम गं गणपतये नमः।

Leave a Reply

Your email address will not be published.