क्या यह सच है कि भानगढ़ के किले में यदि कोई रात गुजारता है तो उसकी मौत हो जाती है? जानिए

भानगढ़ किला कभी भूतिया किला हो ही नहीं सकता क्योकिं किले में बजरंग बली का मंदिर है।
(गोपीनाथ मंदिर, राजस्थान)

भानगढ़ के तीनो तरफ पहाड़िया है।सबसे पहले एक प्राचीर है जिससे दोनों पहाड़ो को जोड़ा गया है। इस प्राचीर के मुख्य द्वार पर हनुमान विराजमान है।। इसके पश्चात राज महल स्थित है। इस किले में कई मंदिर भी है जिनमे भगवन सोमेश्वर, गोपीनाथ, मंगला देवी, और केशव राय के प्रमुख मंदिर है।

मंदिरों के दीवारों और खम्बो में की गयी नक्काशी से अनुमान लगाया जा सकता है की यह किला कितना भव्य और खूबसूरत रहा होगा।

भारतीय पुरात्तव विभाग द्वारा खुदाई से इस बात के पर्याप्त सबूत मिले है कि यह शहर एक प्राचीन स्थल है।

भानगढ़ किले में स्थित गोपीनाथ मंदिर भारतीय पुरातत्व विभाग की उदासीनता और हमारे अंधविश्वास की भेंट चढ़ गया, इसकी विशिष्ट आर्किटेक्चर के लिए इसे जो प्रसिध्दि मिलनी चाहिए थी वो कभी ना मिल सकी ।

इस किले को भूतिया होने पर पुरातत्व विभाग की मूक सहमति भी प्राप्त है जिसकी वजह से इसका ऑफिस भानगढ़ से दूर बनाया गया है ।
अफसोस कि बात तो यह है की हिंदुओ को भी किले के अंदर तथाकथित भूतों पर तो विश्वास है लेकिन बजरंग बली पर नहीं ।
भानगढ़ गोपीनाथ मंदिर भानगढ़ किले के अंदर स्थित है। इस मंदिर की कई मान्‍यतायें प्रचलित हैं। भानगढ़ किले को भूतों काे डेरा माना जाता है।
लेकिन कहा भी जाता है कि जिस किसी को भी भूत परेशान करते है वो इस मंदिर में आते हैं तो भूत का साया उन से हट जाता है। आखिर कर बजरंगबली के आगे कोई पिशाच टिक भी पाया है क्या??

Leave a Reply

Your email address will not be published.