गुड़हल के फूल का काढ़ा बनाकर सेवन करने से जड़ से खत्म होते है यह रोग

गुड़हल का पौधा और औषधीय गुणों से भरपूर होता है इसके पत्ते, फूल और छाल विभिन्न प्रकार के रोगों को दूर करने में सहायक होते है इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्त्व शरीर को स्वस्थ और निरोगी बनाए रखने में मदद करते हैं। गुड़हल के फूल में विटामिंस, मिनिरल्स, फाइबर, आयरन जैसे पोषक तत्त्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं जो हमारी सेहत के लिए आवश्यक होते हैं।

अगर आपको पेट दर्द की समस्या बनी रहती है तो गुड़हल के फूल का काढ़ा बनाकर सेवन करने से पेट दर्द से राहत मिलती है यह पाचन तंत्र और लीवर से संबंधित रोगों को दूर करने में भी मदद करता है अगर आपको कब्ज गैस, एसीडिटी की समस्या बनी रहती है तो गुड़हल के फूल का सेवन जरूर करें। इसके अलावा यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर शरीर को डीटॉक्स करता है.

जिससे शरीर स्वस्थ बना रहता है और साथ ही पीलिया रोग होने का खतरा कम हो जाता है। यह विटामिन बी कांपलेक्स और आयरन से भरपूर होता है जो हमारे शरीर में खून में वृद्धि करता है इसके अलावा यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी मजबूत बनाने में मदद करता है।

यह प्रजनन से जुड़े रोगों को कम करता हैं और साथ ही रक्त में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को बढ़ने से रोकता है जिससे हृदय से संबंधित रोगों का खतरा कम हो जाता है यह रक्त में शुगर की मात्रा को कंट्रोल करता है और हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से भी बचाव करता है।

एन्टिऑक्सिडेंट से भरपूर होने के कारण यह हमारी आंखों की सेहत के लिए फायदेमंद होता है जो आंखों की रोशनी कमजोर होने से बचाता है। यह हमारी त्वचा और बालों की सेहत के लिए भी फायदेमंद होता है। गुड़हल के फूल को मेहंदी में मिलाकर बालों पर लगाने से बाल काले, घने और मजबूत बने रहते हैं इसके अलावा यह त्वचा पर कील, मुहांसों और झुर्रियों को दूर करने में भी सहायक होता है। रोजाना त्वचा पर गुड़हल के फूलों का पेस्ट बनाकर लगाने से सूजन और जलन से राहत मिलती है इसके अलावा हमारी हड्डियों को मजबूत होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ads by Eonads
Translate »