जानिए क्रिसमस डे मनाने की अलग-अलग देशों की अनोखी प्रथा, कहीं अंडरवियर पहनना तो कहीं सब्जियों के बनाए जाते हैं स्टैचू

दुनियाभर में क्रिसमस का त्यौहार काफी हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है. इस दिन ज्यादातर लोगों के घरों में साज-सजावट हुई होती है और कई लोग तो अपने घर में क्रिसमस ट्री भी लाते हैं.25 दिसंबर क्रिसमस डे को प्रभु यीशु के जन्मदिन के तौर पर मनाया जाता है. इस मौके पर लोग एक-दूसरे को केक खिलाते हैं. सेंटा क्लॉज बनने के अलावा गिफ्ट्स का लेन-देने भी किया जाता है. वहीं, आज हम आपको दुनिया के अलग-अलग देशों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां ईसाई समुदाय इस त्यौहार को एक खास तरह से मनाते हैं, तो आइए आपको विभन्न देश में इसे मनाने की अलग-अलग रोचक परंपराओं के बारे में बताते हैं…

भारत में ऐसे मनाते हैं क्रिसमस

भारत में क्रिसमस का त्यौहार काफी धुमधाम से मनाया जाता है. यहां के ऑफिस से लेकर घरों तक में क्रिसमस का त्यौहार की लहर देखने को मिलती है. यहां के चर्च और बाजार काफी शानदार तरीके से सजे हुए होते हैं. ईसाई धर्म के लोगों के अलावा अन्य धर्म भी इस त्यौहार को मनाते हैं और चर्च में कैंडल्स भी जलाने जाते है.

जापान में ऐसे चुनते हैं पार्टनर

क्रिसमस का त्यौहार जापान में कुछ हटकर मनाया जाता है. यहां इस त्यौहार को प्रेम के प्रतीक के रूप में मनया जाता है. जपाव में इंटरनेट पर पहले पार्टनर की तलाश की जाती है उसके बाद उनके साथ शाम में क्रिसमस का त्योहार मनाया जाता है. वहीं, अगर किसी को कोई पार्टनर नहीं मिलता है तो वो घर पर ही रहता है.

ऑस्ट्रेलिया में बनाइ जाती है खास खीर

ऑस्ट्रेलिया में तो क्रिसमस का त्यौहार कुछ अलग ही तरह से मनाया जाता है. यहां के सार्वजनिक जगह क्रिसमस ट्री और सांता क्लोज के स्टेच्यु से सजे हुए होते हैं. यहां पर इस मौके पर आलू बुखारे की खीर बनाई जाती है. दरअसल, इस दौरान ऑस्ट्रेलिया में गर्मी का मौसम रहता है जिस वजह से सेंटा समुद्र के किनारे सर्फ बोर्ड पर घूमते-फिरते नजर आते हैं.

स्पेन में है रोचक प्रथा

स्पेन में क्रिसमस पर रोचक प्रथा होती है. इस दिन यहां के लोग रेड रंग की अंडरवियर पहनते हैं. यहां 8 दिसंबर से ही क्रिसमस के त्यौहार की शुरुआत हो जाती है. इस अवसर पर यहां के सभी लोग अपने रिश्तेदारों और दोस्तों से मिलने के लिए उनके घर जाते हैं और उन्हें गिफ्ट भी देते हैं.

ऑस्ट्रिया में डर का खेल

ऑस्ट्रिया में क्रिसमस के त्यौहार पर एक ‘दानव’ द्वारा बच्चों को डराने की एक बेहद ही अनोखी परंपरा है. यहां पर युवक भूत-प्रेत और राक्षस का वेश बनाकर सड़क पर घूमते हैं और शरारती बच्चों को डराते हैं. कहा जाता है कि इस तरह से करने पर शरारती बच्चों में सुधार आता है.

मेक्सिको में अनोखी प्रथा

मेक्सिको में क्रिसमस डे के अवसर पर जड़ वाली सब्जियों के स्टैच्यू बनाने की प्रथा है. यहां पर 16 दिसंबर से 25 दिसंबर तक क्रिसमस डे मनाया जाता है. इस अवसर पर सभी चर्च में ही डिनर करते हैं. इसके बाद 5 जनवरी को गिफ्ट्स का लेन-देन किया जाता है.

फ्रांस में बच्चे करते हैं ऐसा

क्रिसमस डे पर फ्रांस में काफी अलग प्रथा है. यहां रात को सोने से पहले बच्चे फायर प्लेयस के पास अपने जूते लटाकाते हैं. उनका मनना है कि रात के समय सेंटा उस जूते में गिफ्ट रखकर जाते हैं.

युक्रेन में काफी अलग

यूक्रेन में क्रिसमस डे कुछ अलग तरीके से मनाया जाता है. यहां क्रिसमस ट्री पर गुडलक के लिए मकड़ी के जाले लटकाए जाते हैं. इसके अलावा इस अवसर पर 12 तरह के पकवान बनाए जाते हैं. ये सभी व्यंजन ईसा मसीह के 12 अनुयायियों को दर्शाते हैं. वहीं, इन 12 पकवान बनाने के दौरान बच्चों को रासोई में नहीं जाने दिया जाता है.

नार्वे में छिपा देते हैं झाड़ू

क्रिसमस डे के अवसर पर नार्वे में सभी लोग अपने घर में झाड़ू छिपा देते हैं. इसके पीछे का कारण ये है कि क्रिसमस की शाम हवा में गंदी वस्तु्एं और बुरी चीजें उड़ती हैं. लोगों की मान्यता है कि ये सभी झाड़ू के साथ घर में आ जाते हैं. जिसके चलते झाड़ू छिपाने से ये गंदी वस्तुएं घर में नहीं आ पाती हैं.

ब्रिटेन में फादर को लिखते हैं चिट्ठी

क्रिसमस डे के अवसर पर ब्रिटेन में बच्चे काफी उत्साहिक रहते हैं. इस दिन वो फादर के नाम एक चिट्ठी लिखकर अपनी मनोकामनाए मांगते हैं और इसे आग के पास डाल देते हैं. ऐसे में अगर इस चिट्ठी को आग पकड़ लेती हैं तो बच्चे एक बार फिर एक नया पत्र लिखते हैं.

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *