जानिए सऊदी अरब की 2000 साल पुरानी इस रहस्यमय पहाड़ी के बारें में

सऊदी अरब के इतिहास में ऊंट की बहुत उपयोगिता है, ऊंट सऊदी अरब का राष्ट्रीय पशु है, जितना पुराना नाता सऊदी अरब से शेखों का है, उतना ही पुराना नाता सऊदी अरब में ऊँटों का भी है, ऊंट का उपयोग सामानों के आयात-निर्यात के लिए किया जाता है, ऊँटों के लिए सऊदी अरब में विशेष कैमल फेस्टिवल आयोजित किया जाता है. ऊंट की लोकप्रियता इतनी है की अब सऊदी अरब में एक घाटी में कुछ पुरानी ऊंट के आकारों की कार्विंग मिली है.

सऊदी फ़्रेन्च- पुरातत्वविदों ने सऊदी अरब के उत्तर में अल-जौफ की रेगिस्तान की चट्टानों पर ऊंट के जीवन-सम्बन्धी आकारों को पाया. इन कार्विंग की तारिख 2000 साल पहले की बतायी जा रही है.

यह अभी भी एक रहस्य है, क्योंकि नक्काशियां ऐसे इलाकों में मौजूद हैं जहां इस तरह के अवशेष कभी मिले ही नहीं. इन कार्विंग की उपस्थिति इस क्षेत्र में प्राचीन सभ्यता के अस्तित्व को इंगित करती है.

सऊदी फ़्रेन्च- पुरातत्वविदों के दल ने खोज करने के बाद यह भी अनुमान लगाया की “यह क्षेत्र प्राचीन सभ्यता का उपासना क्षेत्र भी हो सकता है और या फिर इन ऊंट कार्विंग का उपयोग सीमा के चिह्नकों के रूप में किया जाता था.” जबकि कई पुरातत्वविदों ने कहा की “यह खोज देश के उत्तरी क्षेत्रों में शिलालेखों और रॉक कलाओं की संभावनाओं को दर्शाती है.”

सऊदी-फ्रांसीसी मिशन पर सऊदी आयोग के पर्यटन और राष्ट्रीय विरासत (एससीटीएनएच) की एक रिपोर्ट में 56 जगहों पर विशेष रूप से अल-जौफ़, हेल और तबाक में रॉक कला की विशेषता वाली 56 साइटें शामिल हैं.

इन साइट में 12 ऊंटों की मूर्तियों के साथ बलुआ पत्थर के तीन पहाड़ हैं, जिनमें से कुछ गायब हुई हैं, लेकिन पैरों और कुछ शरीर के अंग एक समान बने रहे.

अल-खलीफा , मुख्य शोधकर्ता ने कहा कि यह साइट संभवत: नबाटिएन है क्योंकि यह इराक और अरब प्रायद्वीप के उत्तर को जोड़ने वाले महत्वपूर्ण व्यापार मार्गों पर स्थित है. फ्रांसीसी टीम के अनुसार, साइट पर कोई धार्मिक महत्व नहीं है.

अरबी संस्कृति में, ऊंट पौष्टिक भोजन और दूध के स्रोत के रूप में पूर्वजों के जीवन में बहुत महत्त्वपूर्ण है, लेकिन धार्मिक मान्यताओं के लिए नहीं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.