जानिए सिम स्वैप क्या होता है, सिम स्वैप से कैसे बचा जा सकता है?

हम यानी मोबाइल शॉप वाले सिम स्वैप करते है 3g से 4g में सिम को बदलने में । जब भी कोई कस्टमर हमारे पास आता है सिम को 3G से 4G में बदलने के लिए तब करते है सिम स्वैप ।

कैसे करते हैं ?

Airtel में नया सिम जो हमारे पास blank सिम नंबर से एक sms फारवर्ड करते है 121 पर । फिर कन्फर्म रिप्लाई करके sms भेज देते है ।

कुछ ही घंटों में पुराना सिम Disconnect होके new sim एक्टिवेट हो जाता है । ये तो हुआ हमारा यानी एक मोबाइल रिटेलर का 3g से 4g में कन्वर्ट करने का प्रोसेस ।

अब चलते है इसके फ़्रॉड लोग कैसे use करते है ?

नई सिम का नंबर टाइप करके आपसे ही sms फारवर्ड करवाता है और रिप्लाई भी जो सिम उसके पास रहता है । कुछ देर बाद आपका पुराने सिम का नेटवर्क गायब हो जाता है और फिर जो उसके पास मौजूद हैं वह एक्टिव हो जाता ।

फिर वह उसको बैंकिंग otp में use करता है ।

लेकिन अब ऐसा होने से एयरटेल ने कड़े कदम उठा लिए है

1 सिर्फ 3g सिम ही सिम स्वैप कर सकते है 4g रहेगा तो नही होगा ।

2 सिम स्वैप का sms भेजने के तुरंत एक कॉल आता है एयरटेल की तरफ से जिसमे ये चेतावनी दी जाती हैं कि इस तरह से आपका सिम स्वैप से बैंक खाली हो सकता है। उसमें रिप्लाई करके कन्फर्म करना पड़ता है।

3 सिम स्वैप होने के 24 hours तक otp नही आती है ताकि आप जल्द से जल्द एयरटेल स्टोर पहुंच सके आपका मोबाइल का नेटवर्क नही आने पर । अपना डुप्लीकेट सिम लेने के लिए ।

सिम स्वैप की जानकारी मेने सिर्फ टेलिकॉम सेक्टर में होने वाली तकनीक के बारे में बताया है । इसको छोड़कर हैकर लोग किस प्रकार करते हैं । इसके बारे में मुझे कोई जानकारी नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.