पहले स्कूटर के साथ पीछे एक अतिरिक्त टायर आता था, अब वह क्यों नहीं आता है ? जानिए

स्कूटर के पीछे टायर लगाने के कई कारण है जिसमें सबसे पहला और प्रमुख कारण है कि एक पंचर स्कूटर को धक्का देकर ले जाना बहुत कठिन कार्य है क्योंकि वह पूरी तरह से बैठ जाता है उसके पहले छोटे छोटे होते हैं जिससे बहुत अधिक बल की आवश्यकता होती है। टायर होने से आसानी से उसे बदला जा सकता है

दूसरा प्रमुख कारण बताया जाता है कि तब के स्कूटर के आगे पीछे के दोनों पर यह लगभग बराबर होते थे जिसके कारण से 1 टायर को आगे पीछे किसी में भी लगाया जा सकता था और उसे आसानी से स्कूटर में दिए गए टूल्स के माध्यम से ही लगाया जा सकता था इसलिए पहले कि स्कूटर में इसकी व्यवस्था होती थी।

पर अब समय बदल गया है आज की वर्तमान परिस्थितियों में अब व स्कूटर फिट नहीं बैठता इसके अलावा अभी के दो पहिया वाहनों में दोनों टायरों की साइज में हल्का अंतर होता है जिससे एक ही टायर को दोनों में फिट नहीं किया जा सकता है। क्योंकि अब कनेक्टिविटी के दौर में आसानी से पंचर बनाने वाले लोग मिल जाते हैं इसलिए उतनी चिंता का विषय नहीं रहता। इसलिए भी अब की गाड़ियों में या स्कूटी या स्कूटर में उस तरह से टायर की व्यवस्था नहीं की जाती है।

पुराना स्कूटर पीछे से सपोर्ट सिस्टम देने के लिए व टायर सहयोग करता था पर अब उसकी जरूरत नहीं महसूस होती। ऐसे बहुत से कारण हैं जिनके कारण पहले स्कूटर के पीछे छक्के लगाए जाते थे पर अब उसके प्रयोग ना के बराबर हो रहे हैं जिसके पीछे बेहतर तकनीकी और कनेक्टिविटी का बेहतर माध्यम उपलब्ध होना है

Leave a Reply

Your email address will not be published.