पूजा और बहुमुखी प्रतिभा के स्थानों में शंख क्यों महत्वपूर्ण है? जानें इसके 5 फायदे

 शंख का उपयोग संरचनात्मक दोषों को दूर करने के लिए किया जाता है।

 जब मांगलिक कार्य पूजन किया जाता है, तो शंख का महतव शंख बजाया जाता है। घर में पूजा स्थल पर शंख रखा जाता है और वास्तु में दोषों को दूर करने के लिए भी शंख का उपयोग किया जाता है।

 शंख का महात्व: जब भी कोई शुभ कर्म, पूजा पाठ, हवन आदि होते हैं तो शंख बजाया जाता है। घर में पूजा स्थल में शंख रखा जाता है, वास्तु में दोषों को दूर करने के लिए भी शंख का उपयोग किया जाता है। जीत पर विजय मिलती है। हिंदू धर्म में शंखला का विशेष महत्व है। शंख स्वास्थ्य से भी जुड़ा है। आज हम आपको शंख के महत्व, इसकी उत्पत्ति और लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं।

 शंख की उत्पत्ति

 शंख सागर मंथन से प्राप्त 14 रत्नों में से एक था। शंख को लक्ष्मीजी का भाई माना जाता है क्योंकि दोनों की उत्पत्ति सागर मंथन से हुई थी। शंख भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी के हाथों में है, इसलिए इसका धार्मिक महत्व है। भगवान शिव को छोड़कर सभी प्रकार की पूजा में शंख का उपयोग किया जाता है।

 शंख बजाने का महत्व और लाभ

 1. प्रतिदिन शंख बजाना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है। शंख बजाने से आपके फेफड़े मजबूत होते हैं, सांस लेने की समस्या दूर होती है। नकारात्मक शक्तियां नष्ट हो जाती हैं।

 2. शंख पर जल छिड़कने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है। घर में सकारात्मक ऊर्जा होती है। आसपास का वातावरण स्वच्छ और शुद्ध होता है।

 शान। वास्तुकला में श्रृंखला का विशेष महत्व है। घर के कमजोर पक्ष पर शंख रखने से एक प्रसिद्धि, वैभव और उन्नति मिलती है।

 । शंख को घर की उत्तर पूर्व दिशा में रखने से शिक्षा में सफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। पूजा स्थल या लिविंग रूम में शंख रखना भी फायदेमंद माना जाता है।

 5. ऐसा माना जाता है कि शंख के खोल में रखा पानी खराब नहीं होता है। शंख में कैल्शियम, फास्फोरस और सल्फर के गुण होते हैं। इसका पानी पीने से हड्डियां मजबूत होती हैं। दांत भी स्वस्थ रहते हैं।

 यह। कहा जाता है कि जिस घर में शंख रखा जाता है, वहां देवी लक्ष्मी का वास होता है। देवी लक्ष्मी की मूर्ति या तस्वीर के पास शंख रखने से घर में सुख, समृद्धि और वैभव आता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.