भगवान राम के आराध्य देव कौन थे? जानिए

भगवान राम की पूजा के बिना शिव पूजा अधूरी रहती है और बिना शिव पूजा के राम पूजा अधूरी है। इस विषय में कई मान्याताएं प्रचलित हैँ। मसलन कहा जाता है कि रामेश्वरम में शिवलिंग पर जल चढाने से मनुष्य शिव का प्रिय भक्त हो जाता है।

माना जाता है कि सावन माह में श्रीराम की पूजा भगवान शिव को अत्यधिक प्रसन्न करती है। वहीं इसके चलते भोलेनाथ खुश होकर भक्त को मनचाहा वरदान तक प्रदान करते हैं।

दरअसल मान्यता के अनुसार भगवान शिव श्री राम के इष्ट और श्री राम शिव के इष्ट हैं। वहीं ज्योतिर्लिंगों में से एक रामेश्वरम की स्थापना स्वयं भगवान राम ने अपने हाथों से की है।
तभी तो रामेश्वर तीर्थ की व्याख्याएं भगवान् शिव और श्री विष्णु के मुख से भिन्न भिन्न रूप से इस प्रकार से कथित हैं…

श्री शिवजी कहते हैं , “रामेश्वर तु राम यस्य ईश्वरः” , अर्थात राम जिसके ईश्वर हैं ।

श्री विष्णु जी ( राम जिनके अवतार हैं ) कहते हैं ,”रामेश्वर तु रामस्य यः ईश्वरः”, अर्थात जो राम के ईश्वर हैं ।

सावन के महीने मे भगवान राम की पूजा भी उतना ही महत्व रखती है जितना की शिव पूजा। ऐसे में सावन के महीने मे अधिकतर लोग श्री रामचरितमानस का पाठ कराते हैं। यदि अखण्ङ पाठ नही करा सकते तो एक मास परायण का पाठ भी लाभकारी है।

रामचरितमानस के पाठ से भगवान राम की आराधना तो होती ही है साथ ही भगवान शिव भी प्रसन्न होते हैँ भगवान राम की पूजा के बिना शिव पूजा अधूरी रहती है और बिना शिव पूजा के राम पूजा अधूरी है।

सावन के महीने में रामचरितमानस का महत्व इसलिए भी बढ़ जाता है क्योंकि कहा जाता है इसकी रचना स्वयं शंकर जी ने की है। इसका जिक्र तुलसीदास जी ने लिखा है।

रचि महेस निज मानस राखा। पाइ सुसमय सिवा मनभाषा।।
ताते राम चरितमानस वर। धरेउ नाम हियं हेरि हरसि हर।।
(बालकाण्ड में दोहा नंबर(34) चौपाई(6))

अर्थात महेश ने (महादेव जी) इसे रचकर अपने मन में रखा था और अच्छा अवसर देखकर पार्वती जी को कहा। शिव जी ने अपनें मन में विचार कर इसका नाम रामचरितमानस रखा।

– शिव का प्रिय मंत्र ‘ॐ नमः शिवाय’ एवं ‘श्रीराम जय राम जय जय राम’ मंत्र का उच्चारण कर शिव को जल चढ़ाने से भगवान शिव अत्यंत प्रसन्न होते हैं।

भगवान राम ने स्वयं कहा है : ‘शिव द्रोही मम दास कहावा सो नर मोहि सपनेहु नहि पावा।’

– अर्थात्‌ जो शिव का द्रोह कर के मुझे प्राप्त करना चाहता है वह सपने में भी मुझे प्राप्त नहीं कर सकता। इसीलिए शिव आराधना के साथ श्रीरामचरितमानस पाठ का बहुत महत्वपूर्ण होता है।

: लिंग-थाप कर विधिवत पूजा, शिव समान मोही और न दूजा।।
शिव द्रोही मम दास कहावा, सो नर सपनेहु मोही न भावा।।
(लंकाकाण्ड का दोहा नंबर (1) चौपाई(3))

यानि भगवान राम का कहना है भगवान शिव के समान मुझे कोई दूसरा प्रिय नही है इसलिय शिव मेरे आराध्य देव हैँ जो शिव के विपरीत चलकर या शिव को भूलकर मुझे पाना चाहे तो मैँ उसपर प्रसन्न नहीं होता। जिसका प्रमाण रामचरितमानस में चंद चौपाई और दोहों में किया गया है।

: राम चरितमानस में गोस्वामी जी ने लिखा है।
शंकर प्रिय मम द्रोही, शिव द्रोही ममदास।। ते नर करही कलप भरी, घोर नरक महुँ वास।।

यानि जो व्यक्ति राम से वैर कर शिव का उपासक अथवा शिव से वैर रखता हो ओर राम का उपासक बनना चाहता हो तो वह पुण्य नही पाप का भागी होता है।

माना जाता है मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम 14 वर्ष के वनवास काल के बीच जब जाबालि ऋषि की तपोभूमि मिलने आए तब भगवान गुप्त प्रवास पर नर्मदा तट पर आए। उस समय यह पर्वतों से घिरा था। रास्ते में भगवान शंकर भी उनसे मिलने आतुर थे, लेकिन भगवान और भक्त के बीच वे नहीं आ रहे थे। भगवान राम के पैरों को कंकर न चुभें इसीलिए शंकरजी ने छोटे-छोटे कंकरों को गोलाकार कर दिया। इसलिए कंकर-कंकर में शंकर बोला जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.