लक्ष्मी को खुश करने के लिए घर लाएं ये चीजें, कभी नहीं रुकेगी इनकम

हिंदू धर्म में, लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है। ऐसी मान्यता है कि यदि आप लक्ष्मीजी को प्रसन्न करने में सफल होते हैं, तो आपके जीवन में सुख और समृद्धि की कमी नहीं होती है। धन की बात आते ही भाग्य हमेशा आपके साथ रहेगा। गरीबी कभी भी आपके घर में प्रवेश नहीं करेगी। लक्ष्मीजी का आशीर्वाद वैभव, वैभव और वैभव से भरा है। एक बार जब लक्ष्मीजी आपके घर पर अपनी कृपा दिखाती हैं, तो आपकी प्रगति निश्चित है।

धन की देवी लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए वास्तुशास्त्र में कुछ तरीकों का भी उल्लेख किया गया है। उदाहरण के लिए यदि आप अपने घर में कुछ विशेष प्रकार की चीजें लाते हैं तो मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और आप पर अपनी असीम कृपा दिखाती हैं। तो आइए बिना प्रतीक्षा किए कि आपको मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए घर में क्या लाना चाहिए। घर के अंदर लक्ष्मी नारायण यानी भगवान विष्णु की मूर्ति या तस्वीर लगाना शुभ होता है।

इससे लक्ष्मी जल्द ही प्रसन्न हो जाती हैं। ऐसा माना जाता है कि जिस घर में लक्ष्मी नारायण की पूजा सुबह-शाम की जाती है, वहां मां लक्ष्मी का आगमन होता है। वहाँ लक्ष्मी का स्थायी वास हो जाता है। घर में धन के साथ शांति और भाग्य आता है। घर की उत्तर-पूर्व या पूर्व दिशा में श्रीयंत्र की आवश्यकता होनी चाहिए। ऐसा माना जाता है कि इस श्री यंत्र में लक्ष्मी का वास होता है। अगर आप इसे घर पर रखते हैं तो पैसा बहना बंद नहीं होता है। हालांकि, एक बार घर में स्थापित होने के बाद, उनकी दैनिक पूजा पाठ भी किया जाना चाहिए। साथ ही घर के सभी लोगों को हाथ जोड़कर प्रणाम करना चाहिए। आप अपनी इच्छानुसार श्री यंत्र को अपने पर्स में भी रख सकते हैं।

में, लक्ष्मी गणेशजी को अपना पुत्र मानती है। इसलिए अगर आप घर में गणेश की मूर्ति या तस्वीर लेकर आते हैं, तो मां लक्ष्मी आपसे खुश होती हैं। लक्ष्मीजी की पूजा करने से पहले गणेश की पूजा करना शुभ माना जाता है। श्रीफल यानी नारियल लक्ष्मीजी को बहुत प्रिय है। शुक्रवार के दिन आपको लक्ष्मीजी के चरणों में श्रीफल अर्पित करना चाहिए। ऐसा करने से खाड़ी में गरीबी बनी रहती है। आपका भाग्य चमकने लगता है। यदि आप कहीं निवेश करने जा रहे हैं, तो उससे भी पहले लक्ष्मीजी को अवश्य ही एक श्रीयंत्र अर्पित करना चाहिए।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *