लोग अपने घरों व दुकानों में लाफिंग बुद्धा क्यों रखते हैं? जानिए सच

लाफिंग बुद्धा चाइनीस फेंग शुई का एक आर्टिकल है चाइनीस फेंगशुई के अनुसार लाफिंग बुद्धा को सुख और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है चाइनीस फेंग शुई ज्यादातर प्रतीकात्मक रूप से कार्य करती है और वह एक हद तक ठीक भी है

अच्छे प्रतीक हमारे दिमाग में उसी तरह की ऊर्जा उत्पन्न करते हैं अगर हमें समृद्धि की ओर बढ़ना है तो समृद्धि के प्रतीक ही अपने सामने रखने होंगे और अपना लक्ष्य निर्धारित करना होगा अगर हम प्रबंधन के क्षेत्र में जाना चाहते हैं तो हमारे सामने ऐसे लोगों की तस्वीरें होनी चाहिए जो जिन्होंने प्रतिबंध प्रबंधन के क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किए हो इसी तरह अगर हम राजनीति के क्षेत्र में जाना चाहते हैं तो हमारे आसपास इस तरह के तस्वीर यादगार प्रतीक होने चाहिए जो राजनीति के क्षेत्र में हमारे लक्ष्य हों, तो प्रतीकों से हमें काफी मदद मिलती है और वह हमारे अवचेतन मन को काफी हद तक प्रभावित करते हैं

चाइनीस सैंसुइ इसी सिद्धांत पर काम करती है और में इस तरह के प्रतीकों का जिसमें तस्वीर मूर्तियां और कुछ सूचक शब्दों का भी प्रयोग किया जाता है अक्षरों का भी प्रयोग किया जाता है लेकिन मैं इस बात को थोड़ा सा सुधार करना चाहूंगा ,इन प्रतीकों से हमारे मन हमारे अवचेतन मन में तभी फर्क पड़ेगा, प्रभाव पड़ेगा जब हम उसका अर्थ जानते होंगे ,हमारे भारतीय वातावरण में, भारतीय परिवेश में अगर हम कल्पना करें गणेश भगवान की तो हमें मालूम है कि वे सुख के देवता है खुशहाली के देवता हैं समृद्धि के देवता है ।अगर हम कल्पना करें या देखें मां लक्ष्मी जी को वे धन संपदा की देवी हैं धन के देवता कुबेर जी को भी माना गया है। तो अगर हमें धन का प्रतीक रखें तो हम देवी लक्ष्मी जी या उबेर जी का चित्र लगाएंगे।

हमें हमारे बच्चों को माता-पिता की सेवा करना सिखाना है तो हमें घर पर श्रवण कुमार की तस्वीर लगानी चाहिए हमें बच्चों को यह सिखाना है कि कैसे जिद करके शिक्षा प्राप्त की जा सकती है अपने हुनर को बनाया जा सकता है तो हमें हमारे घर में एकलव्य का चित्र लगाना चाहिए, ऐसा मैं इसलिए कह रहा हूं कि हमारे भारतीय परिवेश में अधिकांश लोग इन छोटी-छोटी कहानियों को बचपन से सुनते आए हैं और वह इन चरित्रों के बारे में अच्छे से जानते हैं तो जब वह जानते होंगे तभी तो उनकी भावनाओं में, अवचेतन मन में परिवर्तन आएगा। आपके सामने कोई ऐसी चीज है रख दी जाए जिसके बारे में आप जानते ही नहीं हैं तो वह आपके विचारों को कैसे परिवर्तित करेगी या कैसे प्रज्वलित करेगी।

आपके प्रश्न के अनुसार जो आपने जानना चाहता उसका उत्तर में दे चुका हूं चाइनीस फेंगशुई के अनुसार चाइनीस लोगों की मान्यता के अनुसार लाफिंग बुद्धा होतेइ एक बौद्ध गुरु थे बाद में देवता माना गया ऐसा माना जाता है कि वह ज्ञान प्राप्ति के बाद हंसने लगे और वहीं इनके जीवन का लक्ष्य हो गया लोगों में हंसी फैलाना ,खुशी फैलाना और वह खुशी के देवता माने गए कालांतर में उन्हें सुख और समृद्धि का देवता मान लिया गया तो सुख समृद्धि के प्रतीक के तौर पर उन्हें घर पर रखा जाता है

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *