श्राद्ध पक्ष में किस प्रकार का भोजन करना वर्जित है और क्यों

हिंदू धर्म में पितृ पक्ष का बहुत महत्व है। मान्यता है कि इन दिनों में पितर धरती पर आते हैं। ऐसे में उनके नाम से दान आदि करना चाहिए और ब्राह्मण, घर की स्वासिनी (बहन बेटी) और गरीबों को भोजन कराया जाना चाहिए। श्राद्ध के निमित्त सात्विक भोजन घर में ही बनाना चाहिए।

श्राद्ध के भोजन में क्या न बनाएं या परोसें ?

श्राद्ध के दिन लहसुन, प्याज, बैंगन का परहेज किया जाना चाहिए।
मूली, आलू, अरबी आदि जमीन के नीचे पैदा होने वाली सब्जियां पितरों के श्राद्ध के दिन नहीं बनाई जाती है।
बड़ी सरसों, काले सरसों की पत्ती और बासी, खराब अन्न का उपयोग नही किया जाता।
श्राद्ध के दौरान चना, मसूर, काली उड़द, कुलथी, सत्तू, मूली, काला जीरा, कचनार, खीरा, काला नमक, लौकी निषेध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.