सोनू सूद ने सब्जी बेचने वाली महिला को किया जॉब ऑफर

लोगों के मददगार सोनू सूद पिछले कुछ महीनों से अपनी दरियादिली को लेकर सुर्खियों में बने हुए हैं। पहले लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके घर पहुंचाकर और अब कई अलग-अलग लोगों की मदद कर सोनू सूद हर जरूरतमंद की बड़ी उम्मीद बन गए हैं। हाल ही में उन्होंने एक किसान को ट्रैक्टर गिफ्ट करने के बाद एक लड़की की मदद की, जिसकी नौकरी कोरोना की वजह से चली गई थी। सोनू सूद ने उस लड़की की मदद करते हुए उसके घर जॉब लेटर भेजा है। दरअसल लॉकडाउन के दौरान फंसे प्रवासी मजदूरों को उनके मूल निवास तक पहुंचाने में बड़ी भूमिका निभाने वाले सोनू सूद अब हर जरूरतमंद की मदद करते हुए नजर आ रहे हैं। 

सोनू के पास कोई भी मदद की उम्मीद से आता है तो वह उसे निराश नहीं करते और पूरी मदद करते हैं। इतना ही नहीं सोनू ने अगर किसी की मजबूरी को देख लिया तो भी वह उसकी सहायता के लिए आगे आ रहे हैं। ऐसा ही कुछ एक सब्जी बेचती हुई लड़की के साथ हुआ जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। एक यूजर ने ट्विटर पर सोनू सूद को लड़की का वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘प्रिय सोनू, यह शारदा है जिन्हें कोरोना संकट के चलते VirtusaCorp ने नौकरी से निकाल दिया था।

लेकिन इस बीच शारदा ने हार नहीं मानी और अपने परिवार के भरण-पोषण के लिए सब्‍जी बेचना शुरू कर द‍िया। कृपया देखें, अगर आप किसी तरह इनकी मदद कर सकेत हैं तो, उम्मीद है आप जवाब देंगे।’ हमेशा की तरह सोनू ने इस ट्वीट का भी जवाब दिया है।  ट्विटर यूजर को जवाब देते हुए सोनू सूद ने लिखा, ‘मेरे अधिकारियों ने उनसे मुलाकात की है, इंटरव्‍यू भी हो चुका है और जॉब लेटर भी भेजा जा चुका है। जय हिंद।’ एक बार फिर सोनू सूद अपने काम से सोशल मीडिया पर छा गए हैं, कई यूजर्स ने उनकी तारीफ की है। 

 इतना ही नहीं सोशल मीडिया पर लोग उन्हें रियल हीरो भी कह रहे हैं। इसके साथ ही कई यूजर्स ने उनके ट्वीट को री-ट्वीट भी किया है। सोनू द्वारा लड़की को जॉब दिलाए जाने के बाद कई यूजर्स ने भी उनसे नौकरी की मांग की है। कोरोना वायरस के चलते नौकरी गंवाने वाली शारदा पेशे से एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। नौकरी जाने के बाद उन्हें मजबूरी में सब्जी बेचना पड़ा, लॉकडाउन के कुछ महीने पहले ही उन्हें अपनी पहली नौकरी मिली थी। तीन महीने की ट्रेनिंग चली इसके बाद सीधे प्रोजेक्ट पर काम करना था। इसी बीच हैदराबाद में कोरोना वायरस को लेकर बंदी का दौर शुरू हो गया। इसके बाद कंपनी ने शारदा को यह कहते हुए निकाल दिया कि प्रोजेक्ट नहीं मिल रहे हैं, इसलिए सैलरी नहीं दे सकते। इसके बाद शारदा ने अपना घर संभालने के लिए सब्जी बेचने का काम शुरू किया  इस बीच टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट में 26-वर्षीय महिला इंजीनियर शारदा ने अपने सब्जी बेचने वाले काम को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा, मैं अपने घर के किराए का भुगतान करने और मेहनत से अपने परिवार की सभी जरूरतों को पूरी कर रही हूं, इसमें कोई शर्म की बात नहीं है…हम इज्जत की जिंदगी जी रहे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.