स्टील का उपयोग कंक्रीट के साथ बड़े पैमाने पर क्यों किया जाता है? जानिए इसके पीछे की बड़ी वजह

कंक्रीट दबाब में उत्तम है। आप आराम से बिना किसी समस्या के कंक्रीट के ऊपर कंक्रीट के वजन का 500 गुना डाल सकते हैं।

दुर्भाग्य से, कंक्रीट पूरी तरह से छोटे से बिस्तार में हीं फेल हो जाता है जब लचीलापन(tension) के संभालने की बात आती है। बहुत कम अवधि में, इसे अपने वजन के भार को में भी सँभालने में परेशानी होती है, इसके ऊपर कोई और भार की तो बात छोड़िये ।

दूसरे शब्दों में, स्तंभों के लिए उत्तम है , बीम के लिए भयानक है।

कंक्रीट पथ्थर के समान लचीलापन संभाल लेता है, तो “ऐसा बिल्कुल नहीं” है.

स्टोनहेंज – बड़े कॉलम, छोटे बीम।

हालांकि, यहाँ एक ट्रिक है.

स्टील तनाव में उत्तम काम करता है, दबाब में इतना अच्छा नहीं है। यह एक कॉलम की तुलना में बेहतर बीम बनाता है। दोनों को मिलाने पर एक ऐसा पदार्थ मिलता है जो दबाब और तनाव दोनों में बहुत मजबूत होता है। आपको बहुत अधिक स्टील की भी जरूरत नहीं है सब कुछ एक साथ रखने के लिए पर्याप्त है।

इसके अलावा, कंक्रीट स्टील के लिए आग (जैसा कि हम जानते हैं कि स्टील को मक्खन में बदल सकता है),से सुरक्षा के रूप में कार्य करता है, जिसका अर्थ है कि संरचना एक आग में भी मजबूत रहती है लेकिन कंक्रीट की ताकत को प्रभावित नहीं करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.