होठों का बदला रंग बताता हैं हमारी सेहत का हाल, इन बातों की रखें जानकारी

क्या आप जानते हैं कि किसी भी बीमारी का पहला संकेत केवल होंठों पर दिखाई देता है। यही कारण है कि डॉक्टर होंठ के रंग को देखते हैं और रोग का निदान करते हैं। होठों का बदला हुआ रंग शरीर में गड़बड़ी की जानकारी देता है।

 पीला: – रक्त में बिलीरूबिन की मात्रा बढ़ने से होंठों का रंग पीला हो जाता है। यह लीवर की किसी समस्या के कारण भी हो सकता है या यह ठीक से काम नहीं कर रहा है। किसी भी वायरल संक्रमण के कारण भी होंठ पीले हो सकते हैं।

 गहरा लाल रंग: – यह शरीर से विषाक्त पदार्थों के निकलने के कारण होता है। विटामिन-बी कॉम्प्लेक्स और विटामिन-सी की कमी से अक्सर होंठों का लाल रंग बहुत गहरा हो जाता है।

 लाल होंठ: – लाल होंठ शरीर के उच्च तापमान या खाद्य एलर्जी का संकेत हैं। जब यकृत परेशान होता है, तो तापमान बढ़ जाता है, जो होंठों को प्रभावित करता है। यह ठीक से सांस न लेने के कारण भी होता है।

 होठों का सफेद होना: – यह शरीर में खून की कमी के कारण होता है। लोहे में उच्च आहार रक्त की आपूर्ति करता है। इसके अलावा, अचानक दौरे, धीमी गति से हृदय गति या दिल की विफलता के कारण होंठ सफेद हो जाते हैं। होंठों का अचानक सफेद होना भी एक आपातकालीन स्थिति है।

 गुलाबी होंठ: – यह स्वस्थ शरीर की निशानी है। गुलाबी होंठ का मतलब है कि आप जो आहार या व्यायाम अपने शरीर को सूट करते हैं वह आपके शरीर के लिए अच्छा है। ऐसी दिनचर्या जारी रखें।

 नीले होंठ: – फेफड़े के कार्य या हृदय की क्रिया में गड़बड़ी, रक्त में ऑक्सीजन की कमी और उच्च कार्बन डाइऑक्साइड के कारण फेफड़े नीले पड़ जाते हैं। अचानक होंठ भी एक आपातकालीन स्थिति है। यदि बच्चा जन्म के तुरंत बाद नहीं रोता है, तो इसका कारण यह है कि फेफड़े ठीक से काम नहीं कर रहे हैं। इससे उसके होंठ नीले पड़ जाते हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *