16 सितम्बर से शुरू हो रहा इन राशियों का अच्छा समय

धनु राशि का स्वामी गुरु है। कालचक्र में धनु राशि की नौवीं राशि है। आपकी राशि का चिन्ह लक्ष्य का प्रतिनिधित्व करता है।

 धनु राशि के पुरुष जातक

 ईश्वर में दार्शनिक विचार और विश्वास।

 – मौका देखकर, जो लोग काम करते हैं और अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए लगातार संघर्ष कर रहे हैं।

 धनु राशि के लोग धन से ज्यादा सम्मान और लोकप्रियता को महत्व देते हैं।

 – आपके दैनिक कार्य में रचनात्मक कार्य प्राथमिकता हैं।

 आप मानव कल्याण को सर्वोपरि मानते हैं।

 – आपकी वृत्ति शारीरिक स्तर से आध्यात्मिक स्तर तक चलती है।

 – प्रकृति सहिष्णु और अच्छी सोच वाली है, लेकिन आप रूढ़िवादी को नहीं छोड़ते हैं।

 – आपकी सफलता की कुंजी किसी भी कार्य को असंभव समझना नहीं है। समय अवधि के अनुसार, यह एक गुण के साथ-साथ एक दोष भी बन जाता है।

 – आप नहीं जानते कि कैसे वादा किया जाए।

 – अपनी क्षमता पर विश्वास करें, लेकिन आपको अति आत्मविश्वास से भी जूझना होगा।

 धनु राशि की स्त्री जातक

 – वे बुद्धिमान और दयालु हैं। धुन की गुणवत्ता को आपका स्वभाव भी कहा जा सकता है। वे दूसरों की भावनाओं के प्रति भी संवेदनशील होते हैं।

 – मीठा व्यवहार और आकर्षक व्यक्तित्व आपके कार्यों की सफलता में मदद करता है।

 – आप धार्मिक और सामाजिक कार्यों में अधिक रुचि रखते हैं, वे इस काम को करने में कुशल हैं, ज्ञानवती और पति विरोध करते हैं।

 – महिलाएं वर्ग से ईर्ष्या करती हैं।

 – आप पति की फालतू और शौकीन मनोदशा से चिंतित हैं।

 – आप जिद्दी, परिवार के नेतृत्व वाले, बातूनी, मधुरभाषी और प्रसिद्धि के आकांक्षी हैं।

 – अनहोनी होने पर आप अचानक निराश हो जाते हैं।

 धनु राशि का सौभाग्य – रविवार, मंगलवार शुभ दिन गुरुवार है।

 धनु का शुभ रंग – पीला बैंगनी सफेद।

 सामान्य विशेषताएं, प्रकृति और धनु की शुरूआत

 तुला और कुंभ राशि से आपका मिथुन बेहतर है। वृष, कन्या और मकर राशि के लोग भी अच्छे संबंध रखते हैं। मेष और सिंह राशि के लोगों का सामान्य रिश्ता होता है। कर्क, वृश्चिक और मीन राशि वालों का साथ कभी नहीं मिलता है। इस राशि में जन्म लेने वाले व्यक्ति का उच्च माथा कान, घर के बड़े, आरोही ग्रह के मामले में सिर के मध्य में छोटा या गंजा हो सकता है। यदि बुध की स्थिति शुभ है, सौम्य और शांत स्वभाव सरल होगा, धार्मिक स्वभाव उदार हृदय, परोपकारी संवेदनशील, करुणा करुणा आदि से भरा होगा, तो दूसरों की भावनाओं को जानने की विशेष क्षमता होगी। इस चिन्ह से प्रभावित व्यक्ति में मजबूत बौद्धिक और मानसिक शक्ति होती है। आपके पास घोड़े की तरह तीव्रता, उत्साह और उत्तेजना के साथ काम करने की क्षमता होगी, क्योंकि दोहरी राशि के कारण, आप कोई भी निर्णय जल्दी नहीं ले पाते हैं और वे जल्दी गुस्सा नहीं होते हैं, लेकिन जब यह आता है, तो वे गुस्से में होते हैं लंबे समय तक। अग्नि का प्रमुख तत्व होने के नाते, इस राशि के लोग अपने साहस और परिश्रम से सबसे कठिन समस्याओं को हल करेंगे और व्यक्तिगत सवारी के लाभों का आनंद लेंगे। शिक्षक, इंजीलवादी, राजनीतिक चिकित्सक, डॉक्टर, वकील, पुस्तक व्यवसाय आदि के क्षेत्र में सफलता प्राप्त होगी। धनु राशि के लोगों के स्वभाव में आगे बढ़ने की प्रबल भावना होती है। धनु नट्स में तेज बुद्धि होती है। उनका व्यक्तित्व अक्सर रंगीन और उत्साही होता है। धनु जातक मूल रूप से जीवन के प्रति एक आशावादी दृष्टिकोण है। लोग उनकी उदारता का अनुचित लाभ उठाने का भी प्रयास करते हैं।

 धनु के लिए इच्छा पूर्ति में सहायक तत्व

 विशेष उपाय – गुरुवार का व्रत करना और सूर्य भगवान और अपने पसंदीदा भगवान की पूजा करना शुभ और कल्याणकारी होगा। शुभ रत्न- इस राशि के लोगों को पुखराज रत्न 5.7.9 या 12 रत्ती को सोने की अंगूठी में पहनकर तर्जनी अंगुली में धारण करना चाहिए। स्वर्ण या तांबे की आरती में हमे मंत्र जाप करके “ओम और क्लीं बृहस्पतये नमः” का कच्चा दूध, गंगा जल, पीले फूल और बीज चढ़ाने चाहिए। (जप संख्या – १६ हजार)

 – गुरु मन्त्र से अभिमंत्रित करके सोने के एक छल्लों वाली सोने की अंगूठी में और सोने की अंगूठी में शुक्ल पक्ष के पहले घंटे में गुरुवार को सूर्योदय के पहले घंटे में पहनना शुभ होता है।

 – गुरुवार का उपवास हमेशा लाभदायक होता है। सूर्यदेव की पूजा करना लाभदायक है। गुरुवार को कंस, चने की दाल, खांड, घी, पीले कपड़े, पीले फूल, हल्दी, पुस्तक, घोड़ा, पीला फल आदि वस्तुओं का दान करना विशेष फलदायी होता है। अपनी जेब में हमेशा एक पीला रूमाल रखें। Guru ग्रां ग्रीन ग्रीन: गुरुवे नमः… .. मंत्र का 7000 बार जप आपकी इच्छाओं को पूरा करने में सहायक है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *